ताज़ा खबर
 

नए सऊदी किंग का नया प्‍लान- बुर्का छोड़ ब‍िक‍िनी पहन सकेंगी मह‍िलाएं

125 किमी. में फैले इस रिसोर्ट में अंतरराष्ट्रीय स्तर के कानून लागू किए जाएंगे और यहां आने के लिए वीजा नहीं लगेगा

Author Published on: August 3, 2017 4:12 PM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है

महिलाओं के बुर्का पहनकर बाहर जाने पर जोर देने वाले देश सऊदी अरब में एक वेस्टर्न-स्टाइल के बीच रिसॉर्ट का निर्माण कराया जा रहा है, जहां महिलाओं को बुर्के की जगह बिकनी पहनने की इजाजत होगी। सिर्फ बिकिनी ही नहीं, महिलाएं यहां अपनी मर्जी की कोई भी ड्रेस पहन सकेंगी। उत्तरपश्चिमी तट पर बनाए जा रहे रेड सी (Red Sea) रिसॉर्ट पर महिलाओं को पहनावे संबंधी सख्त नियमों से थोड़ी राहत मिलेगी। यहां आने के लिए पर्यटकों को वीजा की भी जरूरत नहीं होगी। यहां लोगों को पैराशूटिंग से लेकर, ट्रैकिंग और पर्वतारोहण जैसी एक्टिविटीज करने का भी मौका मिलेगा।

सरकार का कहना है कि 125 किमी. में फैला यह रिसोर्ट सेमी ऑटोनोमस होगा। इस इलाके में अंतरराष्ट्रीय स्तर के कानून लागू किए जाएंगे। सऊदी अरब की सरकार का मानना है कि दुबई की तरह यहां भी पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और बड़ी संख्या में लोग इस देश की यात्रा करेंगे। वर्तमान में सऊदी अरब जाने की इच्छा रखने वाले लोग दुबई जाते हैं, जहां महिलाओं को बिकनी पहनने की इजाजत है।

रेड सी रिसॉर्ट में लोगों को आकर्षित करने के लिए कई चीजें बनाई जाएंगी। इसमें वाइल्डलाइफ ट्रेवलिंग और स्पा की भी सुविधाएं होगी। यहां होटलों और आईलैंड के अलावा, नेचर रिजर्व और लैगून्स होंगे। लग्जरी पंसद करने वाले यात्रियों के लिए भी यहां खास इंतजाम होगा। नेचर रिजर्व में यात्री अरबी तेंदुए और बाज को देख पाएंगे। सरकार का मानना है कि रेड सी प्रोजेक्ट से सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था को हर साल 15 बिलियन सऊदी रियाल (करीब 25 हजार करोड़ रुपए) का फायदा होगा और 35 हजार लोगों को नौकरी मिलेगी। इस प्रोजेक्ट का निर्माण सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान करा रहे हैं। यह उनके विजन 2030 प्लान का एक हिस्सा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 हाइपरलूप का एक और टेस्‍ट सफल: 1200 कि‍मी/घंटा होगी इस लोकल ट्रेन की रफ्तार
2 पेंटिंग के जरिये चैरिटी करना चाहता है ये क्रिकेटर, ट्रोल्स ने कहा-भाईजान पता नहीं इस्लाम में हराम है चित्रकारी
3 चीन फिर बना जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर का मददगार, यूएन में नहीं घोषित होने दिया आतंकी