ताज़ा खबर
 

अजीज ने भारत को चेताया, पाक भी परमाणु ताकत

पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज ने भारत पर एक क्षेत्रीय महाशक्ति की तरह बर्ताव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह उफा समझौते का उल्लंघन करते हुए..

Author Updated: August 25, 2015 9:00 AM

पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज ने भारत पर एक क्षेत्रीय महाशक्ति की तरह बर्ताव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह उफा समझौते का उल्लंघन करते हुए अपना एजंडा थोप रहा था जिससे एनएसए स्तर की वार्ता आकार नहीं ले पाई। उन्होंने कहा कि पहली एनएसए स्तरीय वार्ता रद्द होने के लिए पाकिस्तान दोषी नहीं है। अजीज ने कहा कि पिछले साल सरकार की कमान संभालने के बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को क्षेत्रीय ताकत समझ रहे हैं। वे इस बात को भूल रहे हैं कि पाकिस्तान एक ‘परमाणु शक्ति’ है।

इस बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकर स्तरीय वार्ता रद्द होने के बाद भारत और पाकिस्तान के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के बीच बातचीत होने की अब संभावना नहीं है। मीडिया की एक रिपोर्ट में यह बात आज कही गई है। दैनिक डान ने अजीज के हवाले से लिखा, ‘मोदी का भारत इस प्रकार व्यवहार करता है कि मानो वे क्षेत्रीय महाशक्ति हैं लेकिन हम भी एक परमाणु हथियार संपन्न देश हैं और हम जानते हैं कि खुद की रक्षा कैसे करनी है।’

उन्होंने कहा कि केवल कारोबार और संपर्क संबंधी मामलों पर चर्चा कर भारत हालात को सामान्य बनाने के लिए अपनी शर्तो पर वार्ता चाहता है। अजीज ने कहा कि यदि कश्मीर कोई मुद्दा नहीं है तो ‘क्यों भारत ने अधिकृत कश्मीर में सात लाख सैनिकों को तैनात कर रखा है।’ उन्होंने कहा कि पूरा अंतरराष्ट्रीय समुदाय मानता है कि कश्मीर दो देशों के बीच की समस्या है जिसका समाधान निकलना चाहिए।

अजीज ने कहा, ‘मौजूदा एपिसोड के बाद भारत को यह महसूस करना चाहिए कि उनकी चालें काम नहीं कर रही हैं।’ उन्होंने भारत से कश्मीर में रायशुमारी कराने को कहा ताकि लोग अपने भविष्य का फैसला कर सकें। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद पर वार्ता से नहीं भागेगा क्योंकि ‘हमारे पास भी पाकिस्तान में आतंकवाद को हवा देने में रॉ की संलिप्तता के सबूत हैं।’ अजीज की अलगाववादी नेताओं के साथ मुलाकात और अपने भारतीय समकक्ष के साथ कश्मीर पर चर्चा की योजना को लेकर उभरे मतभेदों के चलते एनएसए स्तरीय वार्ता अंतिम क्षणों में रद्द कर दी गई थी।

सेना अधिकारियों की बातचीत खटाई में: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकर स्तरीय वार्ता रद्द होने के बाद भारत और पाकिस्तान के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के बीच बातचीत होने की अब संभावना नहीं है। मीडिया की एक रिपोर्ट में यह बात आज कही गई है। भारत के यह कहने के बाद कि वह कश्मीरी अलगाववादी नेताओं के साथ मुलाकात की इजाजत नहीं देगा और बातचीत केवल आंतकवाद पर केंद्रित होगी, पाकिस्तान ने शनिवार को एनएसए स्तरीय वार्ता रद्द कर दी थी।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने कहा है कि एजंडा और कश्मीरी हुर्रियत नेताओं को पाकिस्तान के आमंत्रण को लेकर मतभेद होने के कारण एनएसए वार्ता रद्द होने के बाद ‘डायरेक्टर जनरल मिलिट्री आॅपरेशन्स’ (डीजीएमओएस) के बीच और पाकिस्तान रेंजर्स व सीमा सुरक्षा बल के प्रमुखों के बीच मुलाकात पर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं।

अखबार में एक अधिकारी को यह कहते हुए उद्धृत किया गया है कि एनएसए स्तरीय वार्ता रद्द होने के बाद उफा समझौता अब ‘विवादास्पद’ और ‘अप्रासंगिक’ हो गया है।

प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी ने पिछले माह रूसी शहर उफा में अपनी मुलाकात के दौरान डीजीएमओएस और पाकिस्ताान रेंजर्स और बीएसएफ के प्रमुखों के बीच बैठकों को लेकर सहमति जताई थी। भारत एनएसए स्तरीय वार्ताओं से पहले दो बैठकें चाहता था लेकिन इस्लामाबाद ने छह सितंबर को रेंजर्स और बीएसएफ के प्रमुखों के बीच बैठक का प्रस्ताव दिया जिसके बाद डीजीएमओएस बैठक आयोजित होनी थी।

‘मोदी का भारत इस प्रकार व्यवहार करता है कि मानो वे क्षेत्रीय महाशक्ति हैं लेकिन हम भी एक परमाणु हथियार संपन्न देश हैं और हम जानते हैं कि खुद की रक्षा कैसे करनी है। यदि कश्मीर कोई मुद्दा नहीं है तो क्यों भारत ने अधिकृत कश्मीर में सात लाख सैनिकों को तैनात कर रखा है।… सरताज अजीज, पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
PSL 2020 LIVE
X