ताज़ा खबर
 

परमाणु हथियारों के जखीरे पर पाक नीति में कोई बदलाव नहीं: अजीज

अजीज ने बताया कि हक्कानी नेटवर्क जैसे कुछ आतंकवादी समूहों पर पाकिस्तान की नीति के मुद्दे के अलावा परमाणु हथियार भी चिंता का एक मुद्दा बना हुआ है क्योंकि परमाणु अप्रसार अमेरिका के लिए एक प्रमुख एजेंडा रहा है।

Author वॉशिंगटन | March 2, 2016 7:09 PM
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज (एपी फोटो)

पाकिस्तान ने भारत के तेज सैन्य आधुनिकीकरण का हवाला देते हुए अपने परमाणु हथियारों में इजाफे की अपनी ‘‘गतिशील’’ नीति में बदलाव का अमेरिकी आग्रह खारिज कर दिया। अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान से अपने परमाणु हथियार जखीरे की प्रसार नीति की समीक्षा करने को कहा था। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने माना कि अमेरिका और पाकिस्तान के बीच मतभेद संबंधी मुद्दों में परमाणु मुद्दा भी शामिल है। गौरतलब है कि परमाणु हथियार प्रसार के मामले में दुनिया में तेजी से वृद्धि करने वाले देशों में पाकिस्तान भी शुमार है।

अजीज ने बताया कि हक्कानी नेटवर्क जैसे कुछ आतंकवादी समूहों पर पाकिस्तान की नीति के मुद्दे के अलावा परमाणु हथियार भी चिंता का एक मुद्दा बना हुआ है क्योंकि परमाणु अप्रसार अमेरिका के लिए एक प्रमुख एजेंडा रहा है।
‘काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस’ में परिचर्चा के दैरान अजीज ने कहा, ‘‘परमाणु हथियारों की कमान एवं नियंत्रण प्रणाली की सुरक्षा के संदर्भ में हमने जबर्दस्त प्रगति की है। वैश्विक तौर पर अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों और अमेरिका ने यह स्वीकार किया है कि पाकिस्तान ने आयात नियंत्रण, कमान एवं नियंत्रण प्रणाली के लिए सुरक्षा के लिहाज से बेहतर प्रणाली विकसित की है।’’

अजीज ने कहा, ‘‘लेकिन, (अमेरिकी) चिंता बरकार है। हमारी परमाणु क्षमता भारत की परमाणु क्षमता के खिलाफ प्रतिरोधी भूमिका निभाती है। परमाणु प्रतिरोधी क्षमता कोई स्थिर अवधारणा नहीं है बल्कि एक गतिशील अवधारणा है। अगर आपका विरोधी अपनी क्षमता का विस्तार करता है तो आपको भी कदम उठाना होगा। यह ऐसा नहीं है कि जिसे आप हल्के में ले सकते हैं।’’

अजीज ने कहा, ‘‘हम इस बात पर जोर देते रहे हैं कि इसमें भारत की एक स्वतंत्र हैसियत है और हमारी निर्भरशील है। इसलिए अगर भारत को संयमित कर दिया जाए और अमेरिका दोनों देशों के बीच अपना सामरिक एवं पारंपरिक असंतुलन नहीं बढ़ाए तो हमारे लिए काम आसान हो जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत के साथ इस तरह की सामरिक एवं पारंपरिक असंतुलन में नहीं जा सकता है।

अजीज ने कहा, ‘‘इसलिए हम अमेरिका से यह कहते रहे हैं और उनसे हमारी यह शिकायत भी है कि वे जिस तरह से चाहें भारत के साथ अपने रिश्ते को विकसित करें, लेकिन यह भी ध्यान में रखें कि दो देशों के बीच असंतुलन नहीं बढ़ाया जाए अथवा इस तरह का माहौल बनाया जाए ताकि इन सभी चीजों की जरूरत ही नहीं पड़े।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App