ताज़ा खबर
 

ISRO: अब दिसंबर में नहीं बल्कि अगले साल मार्च में लॉन्च होगी SAARC satellite, जानिए क्या है वजह

भारत के महत्वाकांक्षी दक्षिण एशियाई उपग्रह का प्रक्षेपण अगले साल मार्च में किया जाएगा।

Author तिरूवनंतपुरम | November 8, 2016 3:36 PM

भारत के महत्वाकांक्षी दक्षिण एशियाई उपग्रह का प्रक्षेपण अगले साल मार्च में किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवंबर 2014 में नेपाल में दक्षेस शिखर सम्मेलन के दौरान टेलीकम्युनिकेशन और टेली..मेडिसिन सहित विभिन्न क्षेत्रों में दक्षेस सदस्यों को लाभ के लिए तोहफे के तौर पर एक दक्षेस उपग्रह के प्रक्षेपण का ऐलान किया था। इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार ने आज यहां एक समारोह से अलग, संवाददाताओं को बताया कि दक्षेस उपग्रह को पहले इस साल दिसंबर में प्रक्षेपित किया जाना था लेकिन अब इसे अगले साल मार्च में प्रक्षेपित किया जाएगा। चूंकि पाकिस्तान ने इस परियोजना से बाहर रहने का फैसला किया इसलिए अब इसे दक्षिण एशियाई उपग्रह नाम दिया गया है। खास तौर पर, क्षेत्रीय समूह के लिए तैयार किए गए इस उपग्रह से जुड़े तमाम ब्यौरों एवं तौर तरीकों को अंतिम रूप देने के लिए भारत ने दक्षेस के अन्य देशों के साथ गहन विचार विमर्श किया था।

HOT DEALS
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

 

 

दिसंबर में जीएसएलवी मार्क तृतीय का प्रक्षेपण किया जाना है जिसके बारे में इसरो अध्यक्ष ने कहा कि तैयारियां जोरों पर हैं। इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार ने कहा कि श्रीहरिकोटा स्थित प्रक्षेपण स्थल पर सामान पहुंचाया जा रहा है। हम यथाशीघ्र काम करने के लिए प्रयासरत हैं और हमने दिसंबर के अंत तक प्रक्षेपण का लक्ष्य रखा है।

यह रॉकेट कार्यक्रम इसरो के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह देश को करीब चार टन वजन के उपग्रहों का प्रक्षेपण करने में मदद करेगा। मानव संसाधन एवं अवसंरचना सुविधाओं में सुधार की योजना के बारे में पूछने पर इसरो प्रमुख ए एस किरण कुमार ने बताया ‘‘हमें बहुत काम करने की जरूरत है जिसका मतलब है कि हमें और हाथ :मानव संसाधन: चाहिए…..।’

तीसरे प्रक्षेपण स्थल के बारे में इसरो प्रमुख ने कहा कि वर्तमान सुविधा का पूरी तरह उपयोग सुनिश्चित करने के लिए यह जरूरी है। इससे पहले उन्होंने इसरो के 14 केंद्रों से आए करीब 1,000 खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा कि इन गतिविधियों से मानसिक और शारीरिक रूप से नयी ताजगी मिलती है और टीम वर्क में सुधार होता है। ये खिलाड़ी ‘इंटर सेंटर स्पोर्ट्स मीट’ में हिस्सा लेने आए थे। समारोह में विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र के निदेशक डॉ के सिवान भी मौजूद थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App