ताज़ा खबर
 

पुतिन के साथ क्रीमियाई नेता की भारत यात्रा से नाराज हैं पश्चिमी देश

रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के साथ क्रीमिया गणराज्य के प्रमुख सर्गेई अक्सयोनोव की भारत यात्रा से पश्चिमी देश खासे नाराज हैं और अमेरिका का कहना है कि वह इस खबर से ‘‘परेशान’’ है वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति ने इसकी निंदा की है। अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता जेन साकी ने वाशिंगटन में संवाददाताओं से […]

Author December 13, 2014 11:26 AM
पुतिन के साथ आए प्रतिनिधिमंडल में क्रीमिया गणराज्य के प्रमुख सर्गेई अक्सयोनोव भी शामिल थे। (फ़ोटो-पीटीआई)

रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के साथ क्रीमिया गणराज्य के प्रमुख सर्गेई अक्सयोनोव की भारत यात्रा से पश्चिमी देश खासे नाराज हैं और अमेरिका का कहना है कि वह इस खबर से ‘‘परेशान’’ है वहीं यूक्रेन के राष्ट्रपति ने इसकी निंदा की है।

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता जेन साकी ने वाशिंगटन में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम इन खबरों से परेशान हैं कि पुतिन के साथ आए प्रतिनिधिमंडल में सर्गेई अक्सयोनोव भी शामिल हैं।’’

क्रीमिया के नेता सर्गेई अक्सयोनोव ने इस वर्ष मार्च में यूक्रेन को छोड़कर रूसी संघ में शामिल होने का फैसला किया था। वह भारतीय निवेश पाने की लालसा से पहली विदेश यात्रा पर आए थे। क्रीमिया के रूसी संघ में शामिल होने के बाद पश्चिमी देशों ने दोनों के खिलाफ विभिन्न प्रतिबंध लगा दिए हैं।
साकी ने हालांकि कहा कि नयी दिल्ली को इस बात का अंदाजा नहीं था कि भारत यात्रा पर आए पुतिन के प्रतिनिधिमंडल में सर्गेई अक्सयोनोव भी शामिल हैं। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि उनकी यात्रा या प्रतिनिधिमंडल में उनके शामिल होने के संबंध में कोई आधिकारिक सूचना नहीं थी। हम इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण मांग रहे हैं।’’

साकी ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि हमारे पास यह मानने का कोई भी कारण है कि उन्हें (भारत) पहले से इसकी जानकारी थी। लेकिन फिलहाल मेरे पास बस इतनी ही सूचना है।’’

इसबीच, यूक्रेन के राष्ट्रपति पेत्रो पोरोशेंको ने सर्गेई अक्सयोनोव की यात्रा को लेकर नाराजगी जताई और भारत की निंदा की है।
‘लोवी इंस्टीट्यूट थिंक टैंक’ में बोलते हुए पोरोशेंको ने कहा कि अक्सयोनोव की मेजबानी कर भारत ‘‘मूल्यों’’ से ज्यादा ‘‘धन’’ को महत्व दे रहा है।
यूक्रेन के राष्ट्रपति ने दावा किया, ‘‘भारत का रुख कोई मदद नहीं करेगा, यह श्रीमान अक्सयोनोव को नहीं बचाएगा। वह अपराधी है, यह बहुत सीधी बात है। उनकी आपराधिक पृष्ठभूमि है और इसमें कोई शक नहीं की भविष्य भी आपराधिक ही होगा।’’

कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, पर्यटन, फार्मास्यूटिकल और अवसंरचना के क्षेत्र में भारतीय निवेश पाने के बाद अक्सयोनोव ने नयी दिल्ली में सहमतिपत्र पर भी हस्ताक्षर किया।

यह पूछने पर कि क्या पुतिन के साथ उनकी यात्रा दोनों का विरोध कर रहे देशों को संदेश भेजने का रूसी प्रयास है, अक्सयोनोव ने कहा, ‘‘यात्रा का लक्ष्य पूर्णतया तथ्यात्मक था। हम साझेदार खोज रहे हैं और यह सहयोग के लिए है।’’

रूसी अधिकारियों का कहना है कि अक्सयोनोव ‘‘आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल’’ का हिस्सा ‘‘नहीं’’ हैं लेकिन वह राष्ट्रपति के साथ थे। यूक्रेन, क्रीमिया और रूस से जुड़े इस पूरे मामले पर भारत आलोचनात्क रवैया अपनाने से लगातार बचता रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App