ताज़ा खबर
 

डोनाल्ड ट्रंप विवाद के केंद्र में हैं अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक

हाल ही में पद से हटाए गए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन ने दिसंबर (2016) में ट्रंप टावर में सरगेई से मुलाकात की थी।

Author , वॉशिंगटन | March 3, 2017 3:03 PM
अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक। (AP Photo/Cliff Owen, File)

ट्रंप प्रशासन के रूस के साथ रिश्तों को लेकर एक के बाद एक होने वाले विवादों में एक बात आम है और वह है अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक। मॉस्को के यह शीर्ष राजनयिक रूस के साथ ट्रंप के सलाहकारों के रिश्तों की जांच के केंद्र में हैं। कुछ ही सप्ताह में सरगेई के साथ संबंध के चलते राष्ट्रपति के शीर्ष सलाहकार को बर्खास्त कर दिया गया और गुरुवार (2 मार्च) को अटॉर्नी जनरल जेफ सेशन्स के भी इस्तीफे की मांग उठने लगी। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने इस बात की आधिकारिक तौर पर पुष्टि कर दी कि ट्रंप के दामाद जेयर्ड कुशनेर और पद से हटाए गए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन ने दिसंबर में ट्रंप टावर में सरगेई से मुलाकात की थी। अधिकारी ने इसे एक संक्षिप्त शिष्टाचार भेंट बताया।

गुरुवार के मुद्दे में सेशन्स और सरजेई के बीच जुलाई और सितंबर में हुई दो बैंठकें थीं। यह मुद्दा ऐसे समय पर उठा है जब डेमोक्रेटिक पार्टी के आधिकारिक ईमेल खातों की हैकिंग में रूस की संलिप्तता की चर्चा चरम पर है। खुफिया अधिकारियों ने यह भी पुष्टि की थी कि मास्को ने चुनाव को ट्रंप के पक्ष में ले जाने के लिए हैकिंग का आदेश दिया था। रूसी दूतावास से टिप्पणी के लिए संपर्क नहीं किया जा सका।

अमेरिका के अटॉर्नी जनरल ने ‘रूसी जांच’ से खुद को किया अलग

अमेरिका के अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस ने वर्ष 2016 में हुए राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान रूस अधिकारियों के साथ अपने कथित संबंधों की किसी भी जांच से खुद को अलग कर लिया है। सेशंस ने एक बयान में कहा, ‘मैंने अमेरिकी चुनाव अभियान से संबंधित किसी भी तरह की मौजूदा या भविष्य में की जाने वाली जांच से खुद को अलग करने का निर्णय लिया है।’ उनका यह बयान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें जेफ सेशंस पर ‘पूरा’ भरोसा है और उन्हें रूसी जांच से खुद को अलग नहीं करना चाहिए।

बहरहाल सेशंस ने ट्रंप की इच्छा के विरुद्ध जाने का निर्णय लिया। सेशंस ने कहा, ‘घोषणा को इस तरह नहीं लेना चाहिए कि ऐसी कोई जांच चल रही है तो यह उसकी पुष्टि है या फिर भविष्य में ऐसी कोई जांच कराये जाने की कोई संभावना है।’ उन्होंने कहा, ‘व्यवस्था के अनुरूप कार्यवाहक उप अटॉर्नी जनरल और पूर्वी वर्जीनिया जिले के अमेरिकी अटॉर्नी डेन बोनेट उन सभी मामलों में अटॉर्नी जनरल के दायित्वों का निर्वाह करेंगे, जिनसे मैंने खुद को अलग कर लिया है।’

डोनाल्ड ट्रंप ने कंसास में मारे गए भारतीय की मौत की निंदा की

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App