सबसे खतरनाक स्नाइपर राइफल: 4 किमी दूर से शिकार को करेगी ढेर, गोली की रफ्तार 900 मीटर/सेकंड

कंपनी के मुताबिक यह राइफल उन लोगों के लिए है जो प्रोफेशनल स्नाइपर्स हैं और ऐसे हथियार का इस्तेमाल लॉन्ग रेंज शूटिंग में करते हैं।

कंपनी ने दावा किया है कि इस राइफल से 900 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से गोली निकलेगी। (Photo-lobaevarms.com)

रूस की हथियार निर्माता कंपनी जार पुष्का (Tsar Pushka) ने एक ऐसा राइफल लॉन्च किया है 4 किलोमीटर दूर से अपने दुश्मन को ढेर कर सकती है। इस राइफल का नाम है SVLK-14S Sumrak। राइफल निर्माता कंपनी ने दावा किया है कि यह राइफल मारक हथियारों की दुनिया में क्रांति ला देगी। लेकिन जरा रुकिये इस राइफल का इस्तेमाल फिलहाल युद्ध में नहीं किया जाएगा। हालांकि स्नाइपर्स के लिए ये राइफल एक बेहतरीन चीज साबित हो सकती है। जार पुष्का रूस की एक प्राइवेट हथियार निर्माता कंपनी है। कंपनी ने कहा है कि इस हथियार को भले ही रूस में तैयार किया गया है लेकिन इसका तकनीक अमेरिका से लाया गया है। Tsar Pushka ने बंदूकों को बनाने की तकनीकी अमेरिका में सीखी थी। इस बंदूक में 10.3 एमएम की गोली का इस्तेमाल होगा। जब इस राइफल से गोली निकलेगी उस वक्त इसकी रफ्तार 900 मीटर प्रति सेकेंड होगी। यानी कि लगभग 5 सेकेंड से भी कम समय में इस राइफल से निकली गोली दुश्मन को ढेर कर देगी।

( फोटो- lobaevarms.com)

कंपनी की वेबसाइट में मौजूद जानकारी के मुताबिक इस राइफल को बनाने वाले चीफ इंजीनियर यूरी सिनीचिकिन का कहना है कि इस हथियार को पीस बाइ पीस बनाया गया है। यूरी सिनीचिकिन कहते हैं कि जैसे फेरारी कार बनती है, पोर्श बनता है उसी तरह इस बंदूक को तैयार किया गया है। कंपनी के मुताबिक यह राइफल उन लोगों के लिए है जो प्रोफेशनल स्नाइपर्स हैं और ऐसे हथियार का इस्तेमाल लॉन्ग रेंज शूटिंग में करते हैं। हालांकि यह अबतक बने सबसे मारक राइफलों में से एक है, लेकिन इसे बनाने वाले कहते हैं कि युद्ध में इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा। इसकी वजह है इस राइफल की बनावट। इस राइफल के चैंबर में बुलेट डालने के क्लिप नहीं दी गई है। कंपनी का कहना है कि ऐसा राइफल की रेंज बढ़ाने और इसकी निशाना लगाने की क्षमता को बढ़ाने के लिए किया गया है।

राइफल से एक बार में एक ही गोली फायर की जा सकेगी। आप को आश्चर्य होगा कि इस राइफल का बैरल 1.5 मीटर लंबा है। इसे उच्च क्वालिटी के अल्युमीनियम और स्टेनलेस स्टील से तैयार किया गया है। ये बैरल -40 डिग्री से लेकर +60 डिग्री तक के तापमान में भी आसानी से काम करता है। कुल मिलाकर इस हथियार का वजन 9 किलो 600 ग्राम है। रूस के स्नाइपर्स इस राइफल के जरिये 4200 मीटर तक निशाना लगा चुके हैं।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

X