ताज़ा खबर
 

ब्रिटेनः बापू की मूर्ति लगाने के विरोध में स्टूडेंट्स ने चला दिया ‘गांधी मस्ट फॉल’ अभियान

छात्रों का आरोप है कि अफ्रीका में ब्रिटिश शासन की कार्रवाईयों में गांधी की सहभागिता थी। पत्र में कहा गया है कि गांधी ने अफ्रीकियों को, ‘असभ्य’ ‘आधे-अधूरे मूल निवासी’, ‘जंगली’, ‘गंदे’ और ‘पशु जैसे’ के रूप में अपनी कुछ टिप्पणियों में संर्दिभत किया था।

Author Updated: October 17, 2019 11:24 PM
महात्मा गांधी (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाये जाने के प्रस्ताव के खिलाफ एक अभियान शुरू किया है। स्थानीय अधिकारियों ने गांधी की मूर्ति लगाये जाने को मंजूरी दी है।

विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘‘गांधी मस्ट फॉल’’अभियान शुरू किया है। विश्वविद्यालय के छात्र संघ ने मैनचेस्टर नगर परिषद को एक खुले पत्र में शहर के बीचोंबीच महात्मा गांधी की नौ फुट ऊंची कांसे की मूर्ति लगाये जाने के निर्णय पर पुर्निवचार करने को कहा है।

छात्रों का आरोप है कि अफ्रीका में ब्रिटिश शासन की कार्रवाईयों में गांधी की सहभागिता थी। पत्र में कहा गया है कि गांधी ने अफ्रीकियों को, ‘असभ्य’ ‘आधे-अधूरे मूल निवासी’, ‘जंगली’, ‘गंदे’ और ‘पशु जैसे’ के रूप में अपनी कुछ टिप्पणियों में संर्दिभत किया था। गांधी की यह मूर्ति अगले महीने लगने वाली है और इसके शिल्पकार राम वी सुतार हैं।

संयोग से यह गांधी की 150 वीं जयंती वर्ष भी है। छात्र संघ की लिबरेशन एवं एक्सेस अधिकारी सारा खान ने नगर परिषद से अनुमति वापस लेने की मांग की है। वहीं, परिषद के प्रवक्ता ने कहा कि गांधी की मूर्ति लगाने का मुख्य मकसद शांति, प्यार और भाईचारे के उनके संदेश का प्रसार करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दुबई में भारतीय कारोबारी ने जेल से रिहा, 13 विदेशी नागरिकों के स्वदेश वापसी के टिकट खरीदे
2 मर्डर के आरोपी पति के लिए लाइव चैनल पर मांगी अमेरिकी राष्ट्रपति से मदद! ट्रंप ने दिया यह जवाब
3 अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, जेएनयू से कर चुके हैं पढ़ाई, वैश्विक गरीबी को कम करने में दिया अहम योगदान