ताज़ा खबर
 

रिपोर्ट: रोहिंग्‍या मुस्लिम आतंकियों ने दर्जनों हिंदुओं का कत्‍ल किया

सामूहिक नरसंहार करने वाले इस संगठन का नाम अरसा है। अरसा ने अपने दो हमलों में 99 से ज्यादा आम हिन्दुओं की हत्या कर दी थी। इस संघर्ष के कारण बड़ी संख्या में बौद्ध और हिन्दू आबादी विस्थापित हुई है।

बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में राहत सामग्री के लिए छीनाझपटी करते रोहिंग्या शरणार्थी। फोटो- (रायटर)

रोहिंग्या मुस्लिम आतंकवादियों ने साल अगस्त 2017 में दर्जनों बेकसूर हिन्दूओं पर हमले करके मार दिया था। ये तथ्य एमनेस्टी इंटरनेशनल की जांच रिपोर्ट में सामने आया है। सामूहिक नरसंहार करने वाले इस संगठन का नाम अरसा है। रिपोर्ट के मुताबिक, अरसा ने अपने दो हमलों में 99 से ज्यादा आम हिन्दुओं की हत्या कर दी थी। हालांकि अरसा ने इन हमलों में अपना हाथ होने से इंकार किया है। ये हत्याएं म्यांमार की सेना के खिलाफ अपने पहले हमले के दौरान संगठन ने की थी। म्यांमार की सेना पर भी रोहिंग्या मुस्लिमों पर अत्याचार करने के आरोप लगे थे। अगस्त के बाद से करीब 7 लाख से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिम हिंसा के कारण म्यांमार छोड़कर भाग चुके हैं। इस संघर्ष के कारण बड़ी संख्या में बौद्ध और हिन्दू आबादी भी विस्थापित हुई है।

अमनेस्टी ने बांग्लादेश में रहने वाले शरणार्थियों से किए इंटरव्यू के आधार पर कहा है कि म्यांमार के रखाइन प्रांत में अरकान रोहिंग्या सॉल्वेशन आर्मी यानी अरसा के आतंकवादियों ने उत्तरी इलाके के मौंगदा कस्बे को घेरकर जनसंहार किया था। पिछले साल अगस्त में उन्होंने पुलिस चौकियों पर भी हमले किए थे।

एमनेस्टी की जांच से पता चलता है कि अरसा आतंकवादियों ने 26 अगस्त 2017 को हिंदू गांव अह नोक खा मौंग सेक पर निर्मम हमला किया था। इस हमले की प्रत्यक्षदर्शी महिला ने बताया,’आतंकवादियों ने पहले गांव की सभी औरतों, पुरुषों, बच्चों को जमा किया और गांव के बाहर ले गए। इसके बाद उन्होंने मेरे चाचा, मेरे पिता, मेरे भाई सभी को मार दिया। कुल 20 पुरुष, 10 औरतें और 23 बड़े बच्चे, जबकि 14 ऐसे बच्चे थे जिनकी उम्र 8 साल से कम थी। सभी के गले काटकर उन्हें तड़पाकर मारा गया।”

प्रत्यक्षदर्शी महिला ने बताया,”इसके बाद सभी को जमीन में चार बड़ी कब्र बनाकर एक साथ दबा दिया गया। जबकि पड़ोस के गांव ये बौक क्यार के 46 हिन्दुओं के शव अभी भी बरामद नहीं किए जा सके हैं। उस दिन रोहिंग्या मुस्लिम आतंकवादियों ने एक दिन में कुल 99 हत्याएं की थीं।” शरणा​र्थी महिला के बयान की म्यांमार के नाय पी तॉ प्रांत की सरकार ने भी पुष्टि की है। सरकारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सुरक्षाबलों ने सामूहिक कब्रें बरामद की हैं। मरने वाले मुस्लिम नहीं थे, हिंदू थे। उन्हें अरसा के रोहिंग्या मुस्लिम आतंकवादियों ने मारा है।

Next Stories
1 पाकिस्तान की तरफ से भारी गोलीबारी जारी, एक की मौत, कई घायल
2 पाकिस्‍तान के मंत्री ने कहा- हमारी आर्थिक नीतियों की नकल कर आगे निकल गया भारत, हम रह गए पीछे
3 फ्लाइट में शराबी का हंगाम, महिला को छेड़ा और सीट पर ही कर दी पेशाब
ये पढ़ा क्या?
X