ताज़ा खबर
 

प्लास्टिक से सोना बनाने में मिली सफलता

स्विस वैज्ञानिकों को प्लास्टिक के जरिए सोना बनाने में सफलता हासिल हुई है। यह 18 कैरेट का सोना है, जो दस गुना ज्यादा हल्का है। यह शोध साइंस जर्नल में प्रकाशित किया गया है।

Author Updated: January 28, 2020 1:44 AM
स्विस विश्वविद्यालय ईटीएच ज्यूरिख के वैज्ञानिक लंबे समय से प्लास्टिक से सोना बनाने के शोध में लगे थे। स्विस विश्वविद्यालय ईटीएच ज्यूरिख के वैज्ञानिक राफेल मेजेन्गा ने बताया कि सोने का जो नया रूप विकसित किया है, उसका वजन पारंपरिक 18 कैरेट सोने से लगभग दस गुना कम है।

हम सभी प्लास्टिक पर निर्भर हैं दिन प्रतिदिन प्लास्टिक की बढ़ती मात्रा को देख, बिना प्लास्टिक की दुनिया की कल्पना ही नहीं हो सकती। वहीं बीते कई सालों से देश-दुनिया में प्लास्टिक के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी है। दुनियाभर में प्लास्टिक पर प्रतिबंध है। इसके बावजूद पॉलिथिन की ब्रिक्री और इस्तेमाल धड़ल्ले से जारी है। ऐसे में प्लास्टिक का निपटारा दुनियाभर के वैज्ञानिकों के लिए एक बड़ी चुनौती बन चुका है। हालांकि प्लास्टिक से ईंधन, घर और सड़क निर्माण जैसे बहुत सारे प्रयोग विश्वस्तर पर चल रहे है। लेकिन ऐसा पहली बार हुआ कि प्लास्टिक से सोना बनाया गया है।

स्विस वैज्ञानिकों को प्लास्टिक से सोना बनाने में सफलता मिली है। प्लास्टिक के मैट्रिक्स को मिश्र धातु के रूप में इस्तेमाल कर बनाया गया 18 कैरेट का यह सोना वजन में भी काफी हल्का है और इसकी चमक भी असली सोने जैसी ही है। इसे आसानी से पॉलिश भी किया जा सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि हल्का होने के कारण यह सोने की घड़ियों और ज्वैलरी के रूप में काफी लोकप्रिय होगा। यह शोध साइंस जर्नल में प्रकाशित किया गया है।

जब सोने की बात आती है, तो सुंदरता और वजन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। शुद्ध सोना हर रोज पहनना बहुत भारी होता है। इसलिए सोना को मिश्र धातुओं के साथ हल्का किया जाता है। अब, इसे अन्य धातुओं के बजाय प्लास्टिक के साथ मिलाकर, ईटीएच ज्यूरिख के शोधकर्ताओं ने सोने का एक नया रूप तैयार किया है, जो सामान्य वजन से दस गुना हल्का है, लेकिन उसकी शुद्धता किसी की शादी की अंगूठी जितनी ही है। यही नहीं इसकी चमक भी असली सोने जैसी ही है।

स्विस विश्वविद्यालय ईटीएच ज्यूरिख के वैज्ञानिक लंबे समय से प्लास्टिक से सोना बनाने के शोध में लगे थे। स्विस विश्वविद्यालय ईटीएच ज्यूरिख के वैज्ञानिक राफेल मेजेन्गा ने बताया कि सोने का जो नया रूप विकसित किया है, उसका वजन पारंपरिक 18 कैरेट सोने से लगभग दस गुना कम है। पारंपरिक मिश्रण में आमतौर पर तीन-चौथाई सोना और एक चौथाई तांबा होता है, जिसका घनत्व लगभग 15 ग्राम / सेमी3 होता है। पर प्लास्टिक से बनाए गए इस सोने का घनत्व सिर्फ 1.7 ग्राम / सेमी3 है। फिर भी यह 18 कैरेट का सोना है।

वैज्ञानकि राफेल मेजेन्गा ने बताया कि इसे बनाने के लिए प्रोटीन फाइबर और एक पॉलिमर लेटेक्स का इस्तेमाल किया गया है। इसमें पहले सोने के नैनोक्रिस्टल की पतली डिस्क को रखा गया। फिर पहले पानी और बाद में अल्कोहल के जरिए इसका घोल तैयार किया। इस घोल को कार्बन डाइऑक्साइड गैस के उच्च दबाव से प्रवाहित कर इसे ठोस आकार में बदला गया। शोधकतार्ओं ने इसे बनाने की प्रक्रिया और सामग्री दोनों के लिए पेटेंट का आवेदन कर दिया है।

प्लास्टिक से बना सोना भले ही सोना जैसा दिखता है और आधिकारिक तौर पर समान शुद्धता है, इसके बावजूद शोध के टीम के लिए यह बड़ी चुनौती है कि क्या भविष्य में लोग इस प्लास्टिक सोने को स्वीकार कर सकेंगे और क्या इस सोने के भी वही ठाट बाट होंगे, जो परंपरागत सोने के है। वहीं वैज्ञानिकों ने कहा कि गहने के बाहर नई सामग्री के लिए बहुत सारे अनुप्रयोग हैं। शोध टीम का कहना है कि सोने का यह नया रूप इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, रासायनिक उत्प्रेरक और यहां तक कि विकिरण परिरक्षण बनाने में भी उपयोगी होगा।

अमेरिका की स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी की हालिया रिसर्च के मुताबिक धरती पर करीब 9.1 अरब टन प्लास्टिक है। इस समय दुनिया की आबादी करीब 7.6 अरब है। यानी हर व्यक्ति के हिस्से में लगभग 1.2 टन का प्लास्टिक है। माइक्रोप्लास्टिक के हानिकारक केमिकल शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा रहे हैं। हर इंसान प्रतिदिन अनजाने में माइक्रोप्लास्टिक के 200 टुकड़े खा जाता है। इसके कारण आंतों में इंफेक्शन फैल रहा है, इससे आम आदमी किसी न किसी बीमारी का शिकार होता है और इनमें सबसे ज्यादा पेट की बीमारी शामिल है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वुहान का कोरोना वायरसः कैसे खतरे सामने और किन-किन की दस्तक
2 चीन: Coronavirus से राजधानी बीजिंग में पहली मौत, WHO ने चेताया- इस वायरस से दुनिया भर को गंभीर खतरा
3 CAA पर पाकिस्तान की नापाक चाल आई सामने, पाक मूल के सांसद ने EU में पेश किया प्रस्ताव
ये पढ़ा क्या?
X