ताज़ा खबर
 

अमेरिकी राष्ट्रपति पर बरसे अपनी ही पार्टी के सीनेटर, कहा- US को तीसरे विश्व युद्ध की ओर ले जा रहे हैं ट्रंप

सीनेटर ने कहा, "ट्रंप ने इस तरह का एक गंभीर संकट पैदा कर रहे हैं कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की एक मंडली को उन्हें उनकी खुद की हरकतों से बचाना चाहिए।"

Author October 9, 2017 9:10 PM
Donald Trump, US President, Racist, Racist Statement, Donald Trump Statement, Donald Trump Statement on Racist, Trump on Racist Statement, I am not A Racist, international newsअमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप। (Photo: Reuters)

अमेरिका के एक रिपब्लिकन सीनेटर ने चेताया है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने पद को ‘एक रियलिटी शो’ समझ रहे हैं और बगैर सोचे-समझे दूसरे देशों को धमका रहे हैं, और इस तरह वह देश को तीसरे विश्वयुद्ध के रास्ते पर ले जा सकते हैं। ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की रपट के अनुसार, सीनेट की विदेश मामलों की समिति के रिपब्लिकन अध्यक्ष बॉब कॉर्कर ने रविवार को कहा कि वह राष्ट्रपति को लेकर चिंतित हैं, जो नौसिखिए की तरह हरकतें कर रहे हैं। सीनेटर की यह टिप्पणी ट्रंप के उस बयान के बाद आई है, जिसमें उन्होंने रविवार को बॉब पर आरोप लगाया था कि वह दोबारा चुनाव लड़ने का निर्णय इसलिए नहीं ले पाए, क्योंकि उनमें हिम्मत ही नहीं है। ट्रंप ने अपनी टिप्पणी में कहा था, “उन्होंने अपना समर्थन करने के लिए मुझसे गिड़गिड़या था। लेकिन मैंने ना कह दिया और वह बैठ गए (उन्होंने कहा कि वह मेरे समर्थन के बगैर नहीं जीत सकते)।”ट्रंप ने यह भी कहा कि बॉब ने विदेशमंत्री बनने का भी आग्रह किया था, लेकिन “मैंने कहा ‘नहीं धन्यवाद’।”

इन टिप्पणियों के जवाब में बॉब ने कहा, “यह शर्मनाक है कि व्हाइट हाउस एक अडल्ट डे केयर सेंटर बन गया है। जाहिर तौर पर इस सुबह कोई अपनी शिफ्ट में नहीं आया।”सीनेटर ने कहा, “ट्रंप ने इस तरह का एक गंभीर संकट पैदा कर रहे हैं कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की एक मंडली को उन्हें उनकी खुद की हरकतों से बचाना चाहिए।” रिपब्लिकन सीनेटर ने कहा कि दूसरे देशों के खिलाफ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आवेशपूर्ण धमकियां अमेरिका को ‘‘तीसरे विश्वयुद्ध की राह पर’’ ले जा सकती है। विदेशी संबंध पर सीनेट की शक्तिशाली समिति के अध्यक्ष बॉब कॉर्कर ने अपनी ही पार्टी के मौजूदा राष्ट्रपति के खिलाफ तीखी टिप्पणी कर अमेरिका की राजनीति में भूचाल पैदा कर दिया है।

अमेरिकी राजनीतिक के विशेषज्ञों के मुताबिक पूर्व सहयोगियों के बीच सार्वजनिक झगड़े से ट्रंप का विधायी एजेंडा भी प्रभावित हो सकता है क्योंकि ईरान परमाणु करार और कर सुधारों को पारित कराने के लिये कॉर्कर का वोट बहुत अहम है। कॉर्कर ने न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा, ‘‘इससे मुझे चिंता होती है। उनसे किसी को भी चिंता होनी चाहिये जो हमारे देश के बारे में सोचता है।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Panama Papers case: नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार, पत्नी मरियम संग जमानत मिली
2 कांगो में तैनात भारतीय जवानों पर विद्रोहियों का हमला, मिला मुंहतोड़ जवाब, 3 विद्रोही ढेर
3 उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की वो बहन जो अब लेगी कड़े फैसले
Padma Awards List
X