ताज़ा खबर
 

फ्रांस में सौ साल से दफन दो भारतीय सैनिकों को नसीब होगी वतन की मिट्टी, लाया जाएगा शव

ब्रिटिश इंडियन आर्मी के सदस्य के तौर पर भारतीय सैनिकों ने पहले और दूसरे विश्व युद्ध में हिस्सा लिया था।

पहले विश्व युद्ध में इस्तेमाल हुए अमेरिकी ब्रिटिश, फ्रांसीसी और जर्मन गैस मास्क। (Photo- REUTERS Editorial Use Only)

फ्रांस में दफन दो भारतीय सैनिकों के शव करीब 100 साल बाद अपनी मातृभूमि लौटेंगे। ये दोनों सैनिक पहले विश्व युद्ध में अंग्रेजी फौज की तरफ से लड़ने के लिए फ्रांस भेजे गये थे। 39 गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट के ये दोनों सैनिक युद्ध में शहीद हो गये लेकिन उनका शव देश वापस नहीं लाया गया। इन दोनों सैनिकों को डनकर्क से करीब 70 किलोमीटर दूर लावेनती नामक जगह पर ब्रिटिश और जर्मन सैनिकों के संग दफन किया गया था। सितंबर 2016 में हुई खुदाई में भारतीय सैनिकों के शव का पता चला था। सैनिकों के शव के पास गढ़वाल राइफल्स का चिह्न मिला।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार अगले महीने गढ़वाल राइफल्स के ब्रिगेडियर समेत चार भारतीय सैन्य अफसर मृत सैनिकों की शिनाख्त करने के लिए फ्रांस जाएंगे। गढ़वाल राइफल्स के जवानों ने ब्रिटिश इंडियन आर्मी के लिए पहले और दूसरे विश्व युद्ध में हिस्सा लिया था। पहले विश्व युद्ध में इसके करीब 721 जवान शहीद हुए थे। वहीं दूसरे विश्व युद्ध में गढ़वाल राइफल्स के 349 जवान शहीद हुए थे। अंग्रेजों के लिए लड़ने वाले गढ़वाल राइफल्स के जवानों में सबसे ज्यादा चर्चित गबर सिंह नेगी हैं जिन्हें पहले विश्व युद्ध में बहादुरी दिखाने के लिए सर्वोच्च युद्ध सम्मान विक्टोरिया क्रॉस  दिया गया था।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25199 MRP ₹ 31900 -21%
    ₹3750 Cashback
  • jivi energy E12 8GB (black)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹280 Cashback

नेगी फ्रांस में हुई बैटल ऑफ न्यूवे चैपल में 10 मार्च 1915 को शहीद हुए थे। नेगी जहां शहीद हुए थे वो उस जगह से करीब आठ किलोमीटर दूर है जहां इन भारतीय सैनिकों के शव मिले हैं। फ्रांस के बाद 39 गढ़वाल राइफल्स को मेसोपोटामिया (अब इराक) में तैनात किया गया था। पहले विश्व युद्ध में करीब 10 लाख भारतीय सैनिकों ने हिस्सा लिया था जिनमें से करीब 62 हजार मारे गये थे। इन सैनिकों को मौत के बाद विदेशी धरती पर ही दफन कर दिया जाता था। पहले विश्व युद्ध में ब्रिटिश सेना की जीत में भारतीय सैनिकों के योगदान की उपेक्षा होती आयी है। हाल ही में आई फिल्म डनकर्क में भारतीय सैनिकों के योगदान को नकारने को लेकर फिल्मकार क्रिस्टोफन नोलन की काफी आलोचना हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App