ताज़ा खबर
 

विद्रोहियों के कब्जे वाले अलेप्पो का एक तिहाई हिस्सा सीरियाई बलों के नियंत्रण में

सरकारी सुरक्षा बलों के आक्रमण के कारण तकरीबन 10,000 नागरिकों को अलेप्पो से पलायन करना पड़ा।

Author अलेप्पो (सीरिया) | November 28, 2016 1:30 PM
सीरिया के अलेप्पो शहर के नजदीक विद्रोहियों के कब्जे वाले अल-कातरजी में हवाई हमले के बाद वहां से घायल बच्चे को निकालकर सुरक्षित स्थान पर ले जाता एक व्यक्ति। (REUTERS/Abdalrhman Ismail/21 Sep, 2016/File)

सरकारी बलों ने विद्रोहियों के कब्जे वाले अलेप्पो शहर के एक तिहाई हिस्से को अपने नियंत्रण में ले लिया है। सीरिया के इस दूसरे शहर को अपने कब्जे में लेने के लिए सरकारी सुरक्षा बलों के आक्रमण के कारण तकरीबन 10,000 नागरिकों को यहां से पलायन करना पड़ा। समूचे शहर को अपने अधिकार में लेने की मुहिम के तहत शासन बलों ने सप्ताहांत तक पूर्वी अलेप्पो के सबसे बड़े शहर मासाकेन हानानो सहित विद्रोहियों के कब्जे वाले अलेप्पो के छह पूर्वी जिलों को अपने अधिकार में ले लिया है। सीरियन ऑब्जर्वेट्री फॉर ह्यूमन राइट्स ने बताया कि अभियान के 13वें दिन रविवार (27 नवंबर) उन्होंने जबाल बदरा और बादीन के आस पास के इलाकों और तीन अन्य को भी फिर से अपने कब्जे में ले लिया।

सीरिया शासन की बमबारी से अलेप्पो में 32 की मौत

पूर्वी अलेप्पो में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों में सीरिया शासन द्वारा हवाई हमले और गोले दागे जाने के कारण पांच बच्चों समेत कम से कम 32 नागरिकों की मौत हो गई। दी सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने गुरुवार (24 नवंबर) को कहा था कि मारे गए लोगों का हाल का आंकड़ा, बीते आंकड़े (जिसमें 16 लोग मारे गए थे) से कहीं ज्यादा और 15 नवंबर को पूर्वी अलेप्पो में शासन द्वारा आक्रमण शुरू करने के बाद से सर्वाधिक है। ऑब्जर्वेटरी के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने बताया कि कई लोग अभी भी मलबे में दबे हुए हैं। उन्होंने कहा, ‘शाम तक बमबारी में तेजी आ गई। कई घायल लोग और शव अभी भी मलबे में दबे हुए हैं।’ ऑब्जर्वेटरी के मुताबिक 15 नवंबर को आक्रमण शुरू होने के बाद से 27 बच्चों समेत कम से कम 188 नागरिक मारे जा चुके हैं, जबकि विद्रोहियों के हमले में सरकार के कब्जे वाले पश्चिमी इलाके में दस बच्चों समेत 16 नागरिक मारे जा चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App