विकिलीक्स के संस्थापक जुलियन अंसाजे के खिलाफ बलात्कार का मामला बंद, बोले - बदनाम करने वालों को माफ नहीं करूंगा - Rape case closed against WikiLeaks founder Julian Assay - Jansatta
ताज़ा खबर
 

विकिलीक्स के संस्थापक जुलियन अंसाजे के खिलाफ बलात्कार का मामला बंद, बोले – बदनाम करने वालों को माफ नहीं करूंगा

वह अब जमानत पर रिहा होने के बाद भागने और अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण करने में विफल रहने के हल्के आरोपों में लंदन में वांछित हैं।

Author May 20, 2017 5:37 PM
असांज के लंदन में इक्वाडोर दूतावास से आधिकारिक बयान जारी करने की उम्मीद है। (File Photo)

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज ने बिना किसी आरोप के सात साल तक उन्हें हिरासत में रखने के लिए स्वीडिश अधिकारियों पर शनिवार (20 मई) को हमला किया और कहा कि जिन लोगों ने उन्हें बदनाम किया है, उन्हें वह नहीं माफ करेंगे। सांज ने स्वीडिश अभियोजक के उनके खिलाफ बलात्कार के आरोपों की जांच बंद करने का फैसला करने के कुछ घंटे बाद अपने गुस्से का इजहार करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया। असांज के लंदन में इक्वाडोर दूतावास से आधिकारिक बयान जारी करने की उम्मीद है।

45 वर्षीय असांज ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘बिना किसी आरोप के मुझे सात साल तक हिरासत में रखा गया जबकि मेरे बच्चे बड़े हो गए और मेरा नाम बदनाम किया गया। मैं माफ नहीं करता हूं या भूलता नहीं हूं।’’ इससे पहले उन्होंने दूतावास के भीतर से अपनी मुस्कराती तस्वीर ट्वीट की थी।

ब्रिटिश पुलिस ने कहा कि विकीलीक्स संस्थापक जूलियन असांज अगर लंदन में इक्वाडोर दूतावास छोड़ते हैं तो स्कॉटलैंड यार्ड उन्हें गिरफ्तार करेगी। ऐसा स्वीडन के उनके खिलाफ बलात्कार के आरोपों की जांच बंद करने के बावजूद किया जाएगा। वह अब जमानत पर रिहा होने के बाद भागने और अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण करने में विफल रहने के हल्के आरोपों में लंदन में वांछित हैं।

मेट्रोपोलिटन पुलिस (एमपीएस) का बयान ऐसे समय में आया है जब यह बात सामने आई है कि स्वीडन के लोक अभियोजन निदेशक मैरियान नी ने विकिलीक्स संस्थापक के खिलाफ बलात्कार के आरोपों की जांच को बंद करने का फैसला किया।

‘वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत’ ने जूलियन असांज के खिलाफ 29 जून 2012 को गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। अदालत के समक्ष असांज के आत्मसमर्पण करने में विफल रहने पर उनके खिलाफ वारंट जारी किया गया था। मेट्रोपोलिटन पुलिस ने एक बयान में कहा कि अगर वह दूतावास छोड़ते हैं तो मेट्रोपोलिटन पुलिस सेवा पर उस वारंट को तामील करने का दायित्व है।

देखिए वीडियो - लंदन में गिरफ्तार हुए कारोबारी विजय माल्या; जल्द लाए जा सकते हैं भारत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App