सऊदी अरब को जवाब देगा कतर का कारोबारी, 51 करोड़ खर्च कर प्लेन से मंगवाएगा 4000 गाय - Qatar businessman defiance to Saudi Arabia will spend 51 crores to airlift 4000 cows - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सऊदी अरब को जवाब देगा कतर का कारोबारी, 51 करोड़ खर्च कर प्लेन से मंगवाएगा 4000 गाय

कतर के एक कारोबारी गाय को लेकर चर्चा में हैं।

प्रतीकात्मक फोटो। (Source: Nirmal Harindran)

गाय भारत में चर्चा का विषय बनी हुई है लेकिन अब इसका महत्व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काफी बढ़ गया है। कतर के एक कारोबारी गाय को लेकर चर्चा में हैं। हाल ही में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सऊदी अरब यात्रा के बाद 5 जून को अरब समेत मिस्र, यूएई, बहरीन ने कतर के साथ राजनयिक और यात्रिक संबंध खत्म कर दिए थे। खाड़ी देशों का आरोप था कि कतर फिलिस्तीन में हमास और ईरान में शिया कट्टरपंथी संगठनों को सपोर्ट कर रहा है। संबंध खत्म होने के चलते कतर में खाने-पीने की सप्लाई के कम होने या फिर खत्म होने के कयास लगाए जा रहे हैं क्योंकि कतर का आधे से ज्यादा खाने-पीने का सामन पड़ोसी मुल्कों से आता है।

ऐसे ही कतर में दूध का बड़ा हिस्सा निर्यात से पहुंचता है। देश में दूध की कमी न हो इस स्थिति से निपटने के लिए कारोबारी मोताज अल खैय्यात सुर्खियों में हैं लेकिन सिर्फ वह ही नहीं उनकी वजह से गाय भी अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में पहुंच गई है। कतर में दूध की कोई कमी न हो इसके लिए खैय्यात 4,000 गाय कतर के लिए एयरलिफ्ट करवाएंगे और इस काम के लिए लगभग 60 फ्लाइट्स का सहरा लिया जाएगा। खैय्यात पावर इंटरनेशनल होल्डिंग्स के चेयरमैन हैं। खैय्यात ने ब्लूमबर्ग से बातचीत में इस डेरी पैकेज को एयरलिफ्ट करने के बारे में बताया। गायों को अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया से खरीदा जाएगा और फिर उन्हें एयरलिफ्ट किया जाएगा।

खैय्यात का दावा है कि उन्होंने गायों को एयरलिफ्ट करने के बजाय पहले समुद्र के रास्ते से लाने का विचार किया था लेकिन विवादों को देखते हुए उन्होंने एयरलिफ्ट कराने का फैसला लिया। खैय्यात की कंपनी डेरी कारोबार में भी ऐक्टिव है और उनकी कंपनी इसी महीने के अंत तक अपने ऑपरेशन्स शुरू करेगी। खबरों के मुताबिक कतर में खाने की सप्लाई पर कोई असर न पड़े इसके लिए ईरान और तुर्की भी उसकी मदद कर रहे हैं। दोनों ही देशों ने कतर को खाने की सप्लाई डिलिवर की है और सुरक्षा के मद्देनजर तुर्की ने अपनी सेना तैनात करने की बात भी कही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App