ताज़ा खबर
 

अयोध्या में भूमि पूजन का न्यूयॉर्क में भारी विरोध, टाइम्स स्क्वायर पर उमड़ी भीड़, विरोध में लगाए नारे, हाथों में थामे रहे तख्तियां

प्रदर्शनकारियों ने भारी तादात में तख्तियां संग उतरे और प्रतिष्ठित टाइम्स स्क्वायर पर जश्न के खिलाफ नारे लगाए। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन को लेकर मनाया जाने वाला उत्सव सांप्रदायिक रूप से पक्षपाती है।

Times Square, Ram Mandirअयोध्या में भूमि पूजन के विरोध में कई लोग टाइम्स स्क्वायर पर विरोध प्रदर्शन करने उतरे। (फोटो-सोशल मीडिया)

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के विरोध में जहां देश और विदेश में उत्सव का माहौल दिखा और लोगों ने जश्न मनाया, वहीं अमेरिका के टाइम्स स्क्वायर पर मानवाधिकार संगठनों ने विरोध प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शनकारियों ने भारी तादात में तख्तियां संग उतरे और प्रतिष्ठित टाइम्स स्क्वायर पर जश्न के खिलाफ नारे लगाए। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन को लेकर मनाया जाने वाला उत्सव सांप्रदायिक रूप से पक्षपाती है।

इस मौके पर न्यूयॉर्क सिटी काउंसिल के सदस्य डैनियल ड्रोम ने कहा “अफसोस की बात है कि भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका में दूर-दराज के चरमपंथियों ने विशेष रूप से मुस्लिमों को गिराने और बदनाम करने के लिए लिया है। मैं किसी भी व्यक्ति या समूह पर उनके विश्वास के कारण किसी भी हमले की निंदा करता हूं और अपने जिले में और भारत में मेरे मुस्लिम भाई-बहनों के साथ खड़ा हूं।” वे गरिमा और मानव अधिकारों के लिए लड़ते हैं।”

वहीं, दूसरी ओर इससे पहले इससे पहले, अयोध्या में राम मंदिर  भूमि पूजन के समारोह को मनाने के लिए टाइम्स स्क्वायर पर भीड़ एकत्र हुई थी। इस दौरान इन लोगों ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से पहले भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर जश्न मनाया। यह जश्न अमेरिकी भारतीय सार्वजनिक मामलों की समिति (एआईपीएसी) द्वारा आयोजित किया गया था।

न्यूयॉर्क सिटी काउंसिल के एक अन्य सदस्य ब्रैड लैंडर ने कहा,हम सभी की इस्लामोफोबिया के खिलाफ बोलने की जिम्मेदारी है, चाहे वह हमारे देश से आता हो, या यहां तक ​​कि हमारे अपने समुदाय से भी हो।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’ का शिलान्यास करने के बाद कहा कि राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक है तथा इससे समूचे अयोध्या क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार स्वतंत्रता दिवस लाखों बलिदानों और स्वतंत्रता की भावना का प्रतीक है, उसी तरह राम मंदिर का निर्माण कई पीढ़ियों के अखंड तप, त्याग और संकल्प का प्रतीक है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वुहान में कोरोना से ठीक हुए 90 फीसद मरीजों के फेफड़ों में खराबी
2 भारत के अंदरूनी मसले पर चीन ने दिया बयान- कश्‍मीर में धारा 370 हटाना गलत
3 लेबनानः 2,750 टन अमोनियम नाइट्रेट से हुआ भीषण धमाका, 73 मरे, 3700 जख्मी, 10Km तक दहले हिस्से; US राष्ट्रपति बोले- ये आतंकी हमला लगता है
ये पढ़ा क्या?
X