ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी ने दिया अमेरिकी कंपनियों के प्रमुखों को भारत में निवेश का न्यौता, जीएसटी को बताया क्रांतिकारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के प्रमुखों को निवेश का न्यौता देते हुए आज कहा कि भारत एक व्यापार अनुकूल देश के रूप में उभरा है।
Author वाशिंगटन | June 26, 2017 11:34 am
चीनी अखबार लिखता है कि भारत ने ऐसे देश को चुनौती दी है, जो ताकत में उससे कहीं अधिक दमदार है। (PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के प्रमुखों को निवेश का न्यौता देते हुए आज कहा कि भारत एक व्यापार अनुकूल देश के रूप में उभरा है। साथ ही उन्होंने देश में अगले महीने से लागू होने जा रही माल एवं सेवाकर (जीएसटी) प्रणाली को भी व्यापार को और सुगम बनाने वाला बताया। अमेरिका की 20 शीर्ष कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के साथ एक गोलमेज बैठक के दौरान मोदी ने रेखांकित किया कि पिछले तीन साल में राजग (मोदी सरकार) सरकार की नीतियों के चलते भारत ने सबसे ज्यादा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश :एफडीआई:को प्राप्त किया है। इस बैठक में एपल के टिम कुक, गूगल के सुंदर पिचाई, सिस्को के जॉन चैंबर्स और अमेजन के जेफ बेजोस मौजूद थे। मोदी ने उनकी सरकार के पिछले तीन साल में उठाये गये कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि इन सुधारों की संख्या 7000 से ज्यादा है और इनका उद्देश्य व्यापार को सुगम बनाना और न्यूनतम सरकार एवं कारगर सरकार है।

लगभग 90 मिनट तक चली बैठक के बाद मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘शीर्ष मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से बातचीत की। हमने भारत में मौजूद अवसरों पर व्यापक चर्चा की।’’ उन्होंने कहा कि भारत की युवा आबादी और बढ़ते मध्यम वर्ग के कारण दुनिया का ध्यान अब भारत की अर्थव्यवस्था, खासतौर पर निर्माण, व्यापार, वाणिज्य और जनता के जनता से संपर्क पर केंद्रित है ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी के हवाले से कहा, ‘‘सारी दुनिया भारत की ओर देख रही है। भारत सरकार ने 7000 सुधार अकेले व्यापार सुगमता और न्यूनतम सरकार, कारगर शासन के लिए किए हैं।’’ बागले बैठक के दौरान ही ट्वीट कर रहे थे। उनके अनुसार मोदी ने कंपनी प्रमुखों से कहा कि भारत की वृद्धि उसके और अमेरिका दोनों के लिए फायदेमंद हैं। अमेरिकी कंपनियों के सामने इसमें योगदान देने का एक महान अवसर है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘यदि अमेरिका मजबूत होता है तो भारत इसका स्वाभाविक लाभार्थी होगा।’’ माल एवं सेवा कर के बारे में मोदी ने कहा, ‘‘जीएसटी को लागू किये जाने का ऐतिहासिक फैसला अमेरिका के बिजनेस स्कूलों में अध्ययन का विषय हो सकता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह दिखाता है कि भारत बड़े निर्णय ले सकता है और शीघ्रता से उन्हें लागू कर सकता है।’’ विलार्ड होटल में इस बातचीत के दौरान मोदी ने कंपनी प्रमुखों की मांगों को धैर्यपूर्वक सुना। मोदी विलार्ड होटल में ही रूके हैं।
बागले ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 500 रेलवे स्टेशनों पर सार्वजनिक निजी भागीदारी :पीपीपी: मॉडल से होटल विकसित करने के माध्यम से पर्यटन के लिए निहित अवसरों को रेखांकित किया। मोदी ने कहा कि उनकी सरकर ने लोगों के जीवन की गुणवत्ता को सुधारने पर ध्यान केंद्रित किया है और इस दिशा में काम करने के लिए वैश्विक साझेदारी की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि इसीलिए भारत ‘न्यूनतम सरकार, कारगर सरकार’, दक्षता, पारर्दिशता, विकास और सभी के लिए लाभ जैसे सिद्धांतों पर काम कर रहा है।
बागले ने ट्विटर के जरिये कहा, ‘‘समापन भाषण में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप तथा नवप्रवर्तन में सहयोग पर जोर दिया तथा भारत में बौद्धिक, शैक्षणिक तथा व्यवसायिक प्रशिक्षण संभावना में अवसरों का उपयोग करने को कहा।  प्रवक्ता के अनुसार सीईओ ने प्रधानमंत्री के नोटबंदी और अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण तथा जीएसटी की दिशा में उठाये गये कदमों की सराहना की। अमेरिकी कंपनियों के प्रमुखों ने ‘मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया’ तथा सरकार की अन्य महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के लिये समर्थन देने की इच्छा जतायी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.