ताज़ा खबर
 

डिनर के लिए रेस्तरां में एक टेबल पर बैठे मोदी-इमरान खान, नहीं हुआ दुआ-सलाम

दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी शंघाई सहयोग की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे हैं। इस दौरान मोदी पाकिस्तानी पीएम के साथ डिनर की टेबल पर बैठे लेकिन दोनों नेताओं के बीच दुआ-सलाम भी नहीं हुई।

Author बिश्केक | June 14, 2019 9:03 AM
पीएम मोदी ने बिश्केक में चीन के राष्ट्रपति से पाकिस्तान को लेकर बातचीत की। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

प्रधानमंत्री एससीओ समिट में हिस्सा लेने के लिए किर्गिस्तान के बिश्केक में है। पीएम मोदी ने यहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ ही रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन के  साथ भी बातचीत की। इस दौरान एक रेस्टोरेंट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान डिनर की टेबल पर एक साथ बैठे। इस दौरान दोनों नेताओं को बीच दुआ सलाम भी नहीं हुई।

डिनर के बाद एक सूत्र ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘कोई दुआ-सलाम नहीं हुआ’। डिनर के बाद किर्गिज नेशनल फिलहार्मोनिक में एक कंसर्ट के दौरान दोनों नेता आगे की कतार में ही बैठे थे। हालांकि, इन दोनों नेताओं के बीच कम से कम सात नेता बैठे थे।

इमरान खान जिस स्थिति में हैं वो दो साल पहले  पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ की स्थिति से बिल्कुल ही अलग है। जून 2017 में एससीओ समिट के दौरान पीएम मोदी ने पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ से इसी तरह के एक सांस्कृति कार्यक्रम में मुलाकात की थी। इसके बाद पीएम मोदी नवाज शरीफ से लाहौर में भी मिले थे।

आतंक के मुद्दे पर पाक के रवैये में सुधार नहींः इससे पहले पीएम मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ मुलाकात की। मोदी ने चीनी राष्ट्रपति से साफ कहा कि उनका मित्र राष्ट्र पाकिस्तान आतंकवाद के मुद्दे पर अपने रवैये में खास सुधार नहीं ला रहा है। मोदी ने कहा कि इस स्थिति में पाकिस्तान से वार्ता की कोई गुंजाइश नहीं बन रही है।

भारतीय प्रधानमंत्री ने साफ कहा कि पाक को आतंक मुक्त माहौल बनाने की जरूरत है, लेकिन फिलहाल हमें ऐसा होता नहीं दिखाई दे रहा है। हम इस्लामाबाद से ठोस कार्रवाई की अपेक्षा करते हैं। मोदी ने कहा कि उन्होंने पाकिस्तान से संबंध सुधारने की कोशिशें की हैं लेकिन यह पटरी से उतर गई हैं।

भारत से बातचीत की गुहारः पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से भारत से बातचीत की गुहार लगाई है। इमरान खान ने पीएम मोदी से बातचीत करने को कहा है। एससीओ समिट में हिस्सा लेने के लिए रवाना होने से पहले पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने रूसी समाचार एजेंसी स्पूतनिक को  दिए इंटरव्यू में कहा कि भारत के साथ उनके देश के संबंध सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं।

उन्होंने उम्मीद जताई की पीएम मोदी अपने ‘प्रचंड जनादेश’ का प्रयोग पाकिस्तान के साथ रिश्तों में सुधार करेंगे। उन्होंने कहा कि एससीओ समिट ने उन्हें दोनों पड़ोसी देशों के बीच संबंधों को बेहतर बनाने के लिए भारतीय नेतृत्व के साथ बात करने का अवसर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X