ताज़ा खबर
 

विद्रोह भड़काने के आरोप में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की तैयारी, अमेरिकी सांसदों ने पद से हटाने की संभावना पर शुरू की चर्चा

डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों पार्टियों की मांग पर प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने कहा कि अगर ट्रंप को नहीं हटाया गया तो प्रतिनिधि सभा उनके खिलाफ दूसरा महाभियोग प्रस्ताव लाने पर विचार करेगी।

capital hillअमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैन्सी पलोसी (फोटो- एरिन श्राफ / एपी)

अमेरिका में डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों पार्टियों के सांसद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हटाने की मांग कर रहे हैं। प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने कहा कि अगर ट्रंप को नहीं हटाया गया तो प्रतिनिधि सभा उनके खिलाफ दूसरा महाभियोग प्रस्ताव लाने पर विचार करेगी।

डेमोक्रेटिक पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने उप राष्ट्रपति माइक पेंस से अनुरोध किया है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ‘विद्रोह भड़काने’ के कारण पद से हटाने के लिए वह अमेरिकी संविधान का 25वां संशोधन लागू करें। बुधवार को हजारों की संख्या में ट्रंप समर्थकों ने कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) पर हिंसक धावा बोल दिया था। वहां के कई सांसद और यहां तक कि ट्रंप के प्रशासन के कुछ लोग भी बुधवार की हिंसा को लेकर चर्चा कर रहे हैं कि पहले तो ट्रंप ने अमेरिकी संसद भवन में अपने समर्थकों के हिंसक हंगामे की निंदा करने से इनकार किया और बाद में इस पर सफाई देते दिखे।

संविधान में 25वां संशोधन उप राष्ट्रपति और मंत्रिमंडल के सदस्यों को बहुमत से राष्ट्रपति को पद से हटाने का रास्ता साफ करता है। सदन की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी और सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता चक शूमर ने अपने संयुक्त बयान में कहा, ‘राष्ट्रपति की खतरनाक व राजद्रोह कारक गतिविधियों के चलते उन्हें पद से तत्काल हटाना आवश्यक हो गया है।’

वक्तव्य में पेलोसी और शूमर ने कहा, ‘हमने उप राष्ट्रपति पेंस से अनुरोध किया कि वह 25वां संशोधन लागू करें जिसके तहत विद्रोह भड़काने और खतरा उत्पन्न करने पर राष्ट्रपति को उप राष्ट्रपति व मंत्रिमंडल के सदस्य बहुमत से पद से हटा सकते हैं। हालांकि उप राष्ट्रपति की ओर से अभी इस बारे में कोई जवाब प्राप्त नहीं हुआ है।’

अमेरिका में निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हजारों समर्थकों ने वाशिंगटन डीसी स्थित अमेरिकी संसद भवन पर हमला किया और पुलिस के साथ भी उनकी झड़प हुई थी। इसमें चार लोगों की जान चली गई थी। इस दौरान ट्रंप समर्थकों ने संसद के संयुक्त सत्र को बाधित करने का प्रयास किया जिसमें नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन और नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की जीत की पुष्टि होनी थी।

अगले दिन पेलोसी और शूमर ने अलग-अलग संवाददाता सम्मेलन किए जिनमें उन्होंने कहा कि यदि ट्रंप को 25वें संशोधन के जरिए पद से नहीं हटाया गया तो वे कांग्रेस में उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाएंगे। पेलोसी ने कहा कि वह उपराष्ट्रपति माइक पेंस और कैबिनेट के अन्य अधिकारियों के फैसले का इंतजार कर रही हैं।

उन्होंने विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और वित्त मंत्री स्टीव मनुचिन से पूछा, ‘क्या वे इन कार्रवाइयों में साथ देंगे? क्या वे इस बात के लिए तैयार हैं कि अगले 13 दिन में यह खतरनाक शख्स हमारे देश को नुकसान पहुंचाने के लिए कुछ भी कर सके।’ पेलोसी ने कहा कि ट्रंप को अब कुछ भी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती।

Next Stories
1 बेकाबू हुआ कोरोना, हर 30 में से एक 1 संक्रमित; मेयर ने चिट्ठी लिख PM को भयानक हालत से कराया रुबरू
2 अमेरिका कैपिटल बिल्डिंग में हिंसा के बाद डोनाल्ड ट्रंप पर फेसबुक ने लगाया अनिश्चित काल के लिए प्रतिबंध
3 अमेरिका: कैपिटल बिल्डिंग हिंसा की दुनियाभर के नेताओं ने की निंदा, भारत से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक जानें किसने क्या कहा?
ये पढ़ा क्या?
X