ताज़ा खबर
 

बहुत इमोशनल रही रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से पीएम नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात

पुतिन ने पत्रिका को बताया था कि कैसे उनकी कमजोर मां को मरणासन्न अवस्था में स्ट्रेचर पर एक जर्जर इमारत से ले जाया गया।

Author June 2, 2017 8:09 PM
ब्लादिमर पुतिन के साथ पीएम मोदी (PTI Photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार (1 जून) को जब रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से मुलाकात की तो रिश्ते बेहद निजी दिखाई दिये जब मोदी ने इस बारे में जिक्र किया कि किस तरह रूसी राष्ट्रपति के भाई उनके परिवार के उन अनेक सदस्यों में शामिल हैं जिन्होंने देश के लिए जान गंवा दी। आठ महीने में दूसरी बार 64 वर्षीय पुतिन से मुलाकात करते वक्त मोदी ने अपने शुरूआती वक्तव्य में पिस्कारियोवस्कोये सीमेट्री के अपने दौरे का जिक्र किया जहां द्वितीय विश्व युद्ध और 900 दिन तक लेनिनग्राद पर रहे कब्जे के दौरान मारे गये पांच लाख से अधिक लोगों का स्मारक बनाया गया है।

66 साल के मोदी ने कहा, ‘‘मुझे सीमेट्री में जाने का और रूस के लिए जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देने का अवसर मिला।’’ उन्होंने पुतिन को देखते हुए कहा, ‘‘आप एक राजनेता हैं जिनके परिवार ने रूस के सम्मान के लिए कुर्बानी दी। यहां तक कि आपके भाई भी शहीद हो गए थे’’

पुतिन के भाई विक्टर की 70 साल पहले द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान मौत हो गई थी। जब विक्टर महज दो साल के थे। पुतिन द्वारा 2008 में रस्की पायोनियर पत्रिका को दी गयी जानकारी के अनुसार उनके पिता छह भाई थे। उनमें से पांच 1941 से 1944 के युद्ध के दौरान मारे गये थे। सेंट पीटर्सबर्ग का पुराना नाम लेनिनग्राद है।

पुतिन ने पत्रिका को बताया था कि कैसे उनकी कमजोर मां को मरणासन्न अवस्था में स्ट्रेचर पर एक जर्जर इमारत से ले जाया गया। इससे पहले महीनों तक बंधक बने रहने और हिंसक युद्ध के दौरान दो साल के विक्टर की डिप्थीरिया और भुखमरी से मौत हो गई थी। पुतिन के एक और भाई अलबर्ट का जन्म 1930 के दशक में हुआ था लेकिन शैशवावस्था में ही उनकी भी मृत्यु हो गई।

1952 में जन्मे पुतिन ने सीमेट्री जाने के लिए मोदी का आभार जताया। उन्होंने कहा कि रूस की जनता के दिल में ऐसी जगहों के लिए खास महत्व है। उन्होंने कहा कि भारत के साथ उनके देश का रिश्ता विश्वास पर आधारित है, पाकिस्तान और अन्य देशों के साथ रूस के बढ़ते संबंधों से यह फिका नहीं होगा। पुतिन ने मोदी से कहा, ‘‘मुझे इस बात की खुशी है कि आपके साथ द्विक्षीय रिश्तों और अंतरराष्ट्रीय संबंधों के समूचे पहलुओं पर विचार विमर्श कर पाया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक अंतरराष्ट्रीय सहयोग की बात है, तो मैं एक बात कहना चाहूंगा कि एक सप्ताह में भारत एससीओ का पूर्ण सदस्य बन जाएगा।’’ वहीं मोदी ने गर्मजोशी से हुए स्वागत के बाद कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में पुतिन के गृह नगर जाने का सम्मान मिला है। मोदी ने एससीओ की सदस्यता के लिए पुतिन की सक्रिय भूमिका के लिए उनका आभार जताया। पुतिन ने इस बात का भी जिक्र किया कि इस साल रूस और भारत अपने राजनयिक संबंधों की 70वीं र्षगांठ मना रहे हैं।

देखिए वीडियो - मोदी के नोटबंदी का असर, 7.1% रही सालाना विकास दर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App