ताज़ा खबर
 

‘जून-जुलाई में इस्राइल की पहली यात्रा कर सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी’

भारत में इस्राइल के किसी प्रधानमंत्री की एकमात्र यात्रा वर्ष 2003 में की गई थी जब एरियल शैरॉन नयी दिल्ली आए थे।
Author यरूश्लम | February 1, 2017 22:29 pm
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

भारत एवं इस्राइल के राजनयिक संबंधों के 25 साल पूरे होने के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस साल के मध्य में इस्राइल की बहुप्रतीक्षित यात्रा कर सकते हैं। यह इस्राइल में भारत के किसी प्रधानमंत्री की पहली ऐसी यात्रा होगी। इस्राइल में भारत के राजदूत पवन कपूर ने समाचार पोर्टल ‘वाईनेट’ को यात्रा के बारे में जानकारी दी और इस्राइल के साथ रक्षा सहयोग मजबूत करने के प्रयासों का जिक्र किया। इस्राइल ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के तहत भारत में विनिर्माण इकाइयों की स्थापना करना चाहता है। यात्र की जानकारी रखने वाले अन्य सूत्रों ने बताया कि मोदी की यात्रा संबंधी तारीख अभी तय नहीं की गई हैं लेकिन ‘इसके (यात्रा के) जून-जुलाई 2017 में होने की संभावना है।’

मोदी और इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की मित्रता को लेकर हो रही चर्चाओं के बीच मोदी की यात्रा पर बातचीत की जा रही है। भारत और इस्राइल के बीच जनवरी 1992 से शुरू हुए राजनयिक संबंधों में पिछले 25 सालों में लगातार प्रगति हुई है लेकिन वह अतीत में इस प्रकार की उच्च स्तरीय यात्राओं से बचता रहा है। अक्तूबर 2015 में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की इस्राइल यात्रा के बाद ऐसा प्रतीत होता है कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने इस्राइल के साथ संबंधों को अधिक प्राथमिकता दी है। यह भारत के किसी राष्ट्र प्रमुख द्वारा इस्राइल की ऐसी पहली यात्रा थी। इसके बाद प्रणब के आमंत्रण पर इस्राइल के राष्ट्रपति रूवन रिवलिन ने पिछले साल भारत की यात्रा की थी। करीब 20 वर्ष के अंतराल के बाद इस्राइल के किसी राष्ट्र प्रमुख की यह दूसरी भारत यात्रा थी।

भारत में इस्राइल के किसी प्रधानमंत्री की एकमात्र यात्रा वर्ष 2003 में की गई थी जब एरियल शैरॉन नयी दिल्ली आए थे। नयी दिल्ली में भले ही किसी भी पार्टी की सरकार सत्ता में रही हो, दोनों देशों के बीच संबंधों में लगातार सुधार आया है। दोनों नेताओं ने संयुक्त राष्ट्र संबंधी कार्यक्रमों के इतर विदेशी जमीन पर दो बार पहले मुलाकात की है और ऐसा बताया जा रहा है कि दोनों फोन पर एक दूसरे के लगातार संपर्क में हैं। मोदी ने वर्ष 2015 में पेरिस जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन के इतर उनकी बैठक के दौरान नेतन्याहू से कहा, ‘मैं खुश हूं कि हम अकसर फोन पर बात करते हैं, हम सभी बातों पर चर्चा कर सकते हैं। ऐसा बहुत कम ही हुआ है। आपके संदर्भ में ऐसा हुआ है।’

पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भारत आने का दिया न्योता; ट्रंप ने भारत को ‘सच्चा दोस्त’ बताया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.