ताज़ा खबर
 

म्यामांर: भारतीय समुदाय से बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- हम बड़े फैसले लेने से जरा भी नहीं घबराते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी म्यामां में भारतीय प्रवासी लोगों को संबोधित कर रहे हैं।

म्यामां में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो सोर्स एएनआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते मंगलवार (5 सितंबर) को तीन दिवसीय म्यामांर यात्रा पहुंचे हैं। जहां उनका स्वागत म्यामांर के राष्ट्रपति ने गार्ड ऑफ ऑनर देकर किया। वहीं बीती मंगलवार रात म्यामांर के राष्ट्रपति हैन क्यू से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘म्यामांर राष्ट्रपति के साथ अद्भुत बैठक रही। बैठक के दौरान हमने दोनों देशों के ऐतिहासिक रिश्तों को लेकर बातचीत की।’ इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत म्यामांर के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। मोदी म्यामांर के बागन शहर में स्थित ऐतिहासिक मंदिर में भी गए। ये जगह राजधानी से करीब 150 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पीएम पहली बार द्वीपक्षीय बैठक के लिए म्यामां पहुंचे हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी साल 2014 में आसियान-इंडिया सम्मिट के लिए म्यामांर पहुंचे थे। जबकि बीते साल म्यामां के राष्ट्रपति और आंग सांग सू की भारत दौरे पर आईं थीं।

दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने म्यामांर दौरे के दूसरे दिन आज (6 सितंबर) यहां रह रहे भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया है। उन्होंने यनगोन के थुवन्ना स्टेडिम में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने वर्तमान में भारतीय जेलों में बंद म्यामां के 40 मधुआरों को छोड़ने की बात कही। ‘वासुदेवा कुटुम्बकम’ के माध्यम से पूरी दुनिया को एक परिवार बताया। उन्होंने कहा कि ये विचारधारा हमारी परंपरा है और हमें इसपर गर्व है। हम देश के हित में बड़े और कड़े फैसले लेने में जरा भी नहीं घबराते। भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए पीम मोदी ने कहा, ‘भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बहुत एक्टिव रहती हैं। वो विश्व में किसी भी देश में रह रहे भारतीय के प्रति बहुत संवेदनशील रहती हैं। ऐसा दुनिया के किसी देश के विदेश मंत्री में देखने को नहीं मिलता।’

उन्होंने कहा कि 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के बाद बादशाह बहादुर शाह जफर को दो गज जमीन भी इसी धरती पर मिली थी। हमें भारत को गरीबी, आतंकवाद, भ्रष्टाचार, जातिवाद मुक्त कराना है। म्यामांर को पवित्र धरती बताते हुए पीएम ने कहा कि ये वो पवित्र धरती है जहां से सुभाष चंद्र बोस ने गरज कर कहा था- तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा। भारत का स्वंतत्रता आंदोलन का इतिहास म्यामांर को नमन किए बिना कभी पूरा नहीं हो सकता। म्यामांर में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए पीम मोदी ने कहा कि मैं आज मेरे सामने मिनी इंडिया खड़ा है। आज मैं भारतीय समुदाय के लोगों से मिलकर बहुत खुश हूं।

जानकारी के लिए बता दें कि भारत और म्यामां ने विभिन्न क्षेत्रों में 11 सहमति ज्ञापनों ‘एमओयू’ पर दस्तखत किए। इनमें एक समझौता सामुद्रिक क्षेत्र की सुरक्षा से संबंधित है। माना जा रहा है कि इन समझौतों से दोनों देशों के रिश्ते और मजबूत हो सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और म्यामां की स्टेट काउंसिलर आंग सान सू की के बीच व्यापक महत्व के मुद्दों पर विचार विमर्श के बाद इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। भारत और म्यामां ने सामुद्रिक क्षेत्र की सुरक्षा में सहयोग के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। दोनों पक्षों ने व्हाइट शिपिंग सूचनाओं को साझा करने के लिए भी करार किया है। यह वाणिज्यिक गैर सैन्य मर्चेंट जहाजों की पहचान के बारे में अग्रिम में सूचना देने से संबंधित है। इस करार से गैर वगीकृत मर्चेंट नेवी जहाजों या कार्गो जहाजों के बारे में डेटा देने के कामकाज में सुधार होगा। इन 11 में से एक एमओयू चुनाव आयोग और म्यामां के राष्ट्रीय स्तर के चुनाव आयोग यूनियन इलेक्शन के बीच भी किया गया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App