ताज़ा खबर
 

मुखर्जी के बाद मोदी कर सकते हैं अफ्रीकी देशों का दौरा

मुखर्जी ने कहा कि कुछ दिनों पहले उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने ट्यूनीशिया और मोरक्को का दौरा किया। मैं इन देशों का दौरा कर रहा हूं और इसके ठीक बाद प्रधानमंत्री भी चार-पांच अफ्रीकी देशों का दौरा यह संदेश देने के लिए करने जा रहे हैं कि ‘अफ्रीका, हम आपके के साथ खड़े हैं’।

अकरा | Updated: June 15, 2016 5:19 AM
(प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी)

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अफ्रीका महाद्वीप के तीन देशों घाना, आइवरी कोस्ट और नामीबिया का दौरा करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ अफ्रीकी देशों की यात्रा कर सकते हैं। घाना में भारतीय उच्चायुक्त के जीवा सागर की ओर से आयोजित स्वागत समारोह के दौरान मुखर्जी ने सोमवार को भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए मोदी के संभावित दौरे का संकेत दिया।

अफ्रीका के साथ भारतीयों की पुरानी मित्रता को याद करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि समय के साथ यह रिश्ता प्रगाढ़ होता चला गया। पिछले साल नई दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी की ओर से आयोजित भारत अफ्रीका फोरम शिखर बैठक के बाद हुए अपने इस दौरे का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति के तौर पर अफ्रीका के तीन देशों का मेरा दौरा आकस्मिक नहीं है।

मुखर्जी ने कहा कि कुछ दिनों पहले उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने ट्यूनीशिया और मोरक्को का दौरा किया। मैं इन देशों का दौरा कर रहा हूं और इसके ठीक बाद प्रधानमंत्री भी चार-पांच अफ्रीकी देशों का दौरा यह संदेश देने के लिए करने जा रहे हैं कि ‘अफ्रीका, हम आपके के साथ खड़े हैं’। भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वे ‘डिजिटल इंडिया’, ‘स्टार्टअप इंडिया’, ‘स्टैंड अप इंडिया’, ‘स्वच्छ भारत मिशन’ और ‘स्मार्ट सिटी’ जैसे कार्यक्रमों से जुड़ें। राष्ट्रपति ने कहा कि अफ्रीका के साथ भारत का व्यापार 70 अरब डालर से अधिक है और निवेश भी करीब 35 अरब डालर है।

घाना और दूसरे अफ्रीकी देशों के साथ भारत की मित्रता का जिक्र करते हुए मुखर्जी ने कहा कि भारत ने पिछले कुछ सालों में घाना को कई परियोजनाओं के लिए 40 करोड़ डॉलर का रियायती कर्ज प्रदान किया है। भारत एक्जिम बैंक रेल परियोजना के लिए धन मुहैया करा रहा है। भारत-घाना द्विपक्षीय व्यापार तीन अरब डॉलर तक पहुंच गया है और यहां भारतीय निवेश भी करीब एक अरब डॉलर का है।

मुखर्जी ने घाना के राष्ट्रपति जॉन ड्रमानी महामा के साथ बातचीत के दौरान कहा कि दोनों देशों ने द्विपक्षीय व्यापार को 2020 तक पांच अरब डॉलर तक ले जाने पर सहमति जताई है। उन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था में अफ्रीकी मूल के लोगों की भूमिका की जमकर सराहना की।

मुखर्जी ने कहा कि प्रवासियों की सक्रिय भूमिका के बगैर यह बड़े प्रयास संभव नहीं होते। आप भारत की बढ़ती आर्थिक ताकत में चौतरफा इजाफा करने वाले हो गए हैं। मैं आपकी प्रतिबद्धता के लिए आपका धन्यवाद करता हूं।

Next Stories
1 आतंकवाद से निपटने के लिए रक्षा सहयोग पर सहमत भारत और घाना
2 फिलीपीन ने की दूसरे कनाडाई बंधक की हत्या किए जाने की पुष्टि
3 डोनाल्ड ट्रंप ने रद्द किए मशहूर अमेरिकी अखबार ‘वाशिंगटन पोस्ट’ के प्रेस अधिकार
ये पढ़ा क्या?
X