ताज़ा खबर
 

कर्ज नहीं चुकाए तो पाकिस्तान एयरलाइंस के विमान को एयरपोर्ट पर मलेशिया ने किया जब्त, यात्रियों को प्लेन से उतारा

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के एक बाईंग 777 पैसेंजर प्लेन को जब्त कर लिया है। क्‍वालालंपुर एयरपोर्ट पर जब विमान को जब्‍त किया गया उस वक़्त उसमें यात्री और चालक दल सवार थे। लेकिन उन्हें विमान से उतार दिया गया और कंपनी ने विमान को कब्जे में ले लिया।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: January 15, 2021 7:15 PM
planeतस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

कर्ज नहीं चुकाने पर मलेशिया ने पाकिस्‍तान की सरकारी विमानन कंपनी पाकिस्‍तान इंटरनैशनल एयरलाइन्‍स का एक विमान जब्‍त कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बोइंग 777 यात्री विमान लीज पर लिया गया था और पैसा नहीं चुकाने पर मलेशिया ने विमान को जब्‍त कर लिया गया है। क्‍वालालंपुर एयरपोर्ट पर जब विमान को जब्‍त किया गया उस वक़्त उसमें यात्री और चालक दल सवार थे। लेकिन उन्हें विमान से उतार दिया गया और कंपनी ने विमान को कब्जे में ले लिया।

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस ने एक ट्वीट कर बयान जारी करते हुए कहा- पीआईए क एक एयरलाइन को मलेशिया की स्थानीय अदालत ने वापस मंगवा लिया है। यह एकतरफा फैसला है। यह विवाद पीआईए और अन्य पार्टी के बीच यूके कोर्ट में लंबित है। पाकिस्‍तानी अखबार डेली टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान इंटरनैशनल एयरलाइन्‍स के बेड़े में कुल 12 बोइंग 777 विमान हैं। इन विमानों को विभिन्‍न कंपनियों से समय-समय पर ड्राई लीज पर लिया गया है।

बताया जा रहा है कि मलेशिया ने जिस विमान को जब्‍त किया है, वह भी लीज पर था लेकिन लीज की शर्त के तहत पैसा नहीं चुकाने पर इस विमान को क्‍वालालंपुर में जब्‍त कर लिया गया है। इससे पहले सऊदी अरब ने इमरान खान सरकार से अपने 3 अरब डॉलर वापस मांग ल‍िए थे। इमरान सरकार ने चीन से लोन लेकर सऊदी अरब के लोन को चुकाया था।

बता दें पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन को लेकर हाल ही में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ था। जिसमें बताया गया था कि पीआईए के 40 फीसदी पायलट फर्जी लाइसेंस के दम पर विमान उड़ाते हैं, जिसकी वजह से पीआईए के विमान बेहद खतरनाक हो चले हैं। कराची क्रैश के बाद सरवर खान ने कहा था कि पिछले साल एक जांच में पता चला है कि पाकिस्तान के 860 ऐक्टिव पायलट्स में से 262 पायलट्स के पास या तो फर्जी लाइसेंस थे या उन्होंने अपने एग्जाम में चीटिंग की थी।


उन्होंने कहा कि इन पायलट्स ने न कभी एग्जाम दिया होता है और न इनके पास प्लेन उड़ाने का सही अनुभव होता है। खान ने कहा कि दुर्भाग्य से पायट्स की नियुक्ति राजनीतिक आधार पर होती है। उन्होंने बताया कि 4 PIA पायलट्स की डिग्री फर्जी पाई गई है और नियुक्ति के वक्त मेरिट को नजरअंदाज कर दिया जाता है।

 

Next Stories
1 नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद अब तक 13 लोगों की मौत, फाइजर कंपनी पर उठे सवाल
2 सीक्रेट सर्विस को नहीं मिली इवांका ट्रंप के घर में टॉयलेट इस्तेमाल करने की मंजूरी, पड़ोस में बाथरूम के लिए सरकार के 70 लाख रु. खर्च
3 क्या है सेक्शन 230, जिसे टि्वटर पर डोनाल्ड ट्रंप को बैन करने के लिए गया इस्तेमाल? जानें
ये पढ़ा क्या?
X