ताज़ा खबर
 

स्नैपचैट की जगह लोगों ने स्नैपडील को अनइन्सटॉल कर उतारा गुस्सा, अब ट्विटर पर एेसे उड़ रहा मजाक

जबकि स्नैपचैट के सीईओ ने कहा था कि यह ऐप केवल रईस लोगों के लिए है, मैं इसको भारत और स्पेन जैसे गरीब देशों में बढ़ाना नहीं चाहता।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (फाइल फोटो)

स्नैपचैट के एक पूर्व कर्मचारी ने बताया था कि सोशल मीडिया कंपनी के सीईओ इवान स्पीजेल ने कहा था कि वह भारत जैसे ‘गरीब’ देश में अपना व्यापार फैलाने के इच्छुक नहीं हैं। उनके इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर स्नैपचैट का जमकर विरोध हुआ और कंपनी को जमकर ट्रोल किया गया। उस पर जोक्स बनाए गए और यहां तक कि भारतीयों ने एक रेटिंग देकर इस एेप को अनइन्स्टॉल भी कर दिया। हालांकि, स्नैपचैट ने सफाई देते हुए कहा था कि उनकी सीईओ ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया। लेकिन इस चक्कर में स्नैपचैट की जगह ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील को नुकसान पहुंच रहा है। आप भी सोच रहे होंगे, एेसा कैसे हो सकता है।

लेकिन यह सच है। कई लोग भूल में स्नैपचैट की जगह स्नैपडील के एेप को अनइन्स्टॉल कर रहे हैं और उसे एक रेटिंग दे रहे हैं। यह मामला तब सामने आया जब कुछ यूजर्स ने स्नैपडील के एेप स्टोर के रिव्यू के स्क्रीनशॉट ट्विटर पर डाल दिए।  इसके बाद उन लोगों का भी सोशल मीडिया पर खूब मजाक बन रहा है। एक यूजर ने लिखा कि इससे साफ होता है कि भारतीय गरीब ही नहीं, अनपढ़ भी हैं।

यह है मामला: स्नैपचैट के पूर्व कर्मचारी के मुताबिक 2015 में एक मीटिंग के दौरान उसने सीईओ ईवान स्पीगल से कहा था कि उनका ऐप भारत जैसे देशों में तरक्की नहीं कर रहा। कर्मचारी के मुताबिक, इस पर ईवान स्पीगल ने कहा था, ‘यह ऐप केवल रईस लोगों के लिए है, मैं इसको भारत और स्पेन जैसे गरीब देशों में बढ़ाना नहीं चाहता।’ इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद भारत के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। ट्विटर, फेसबुक समेत हर जगह Snapchat का विरोध होने लगा। लोगों ने #UninstalSnapchat का हैशटैग भी चलाया। जिन लोगों ने अपने फोन में स्नैपचैट डाला हुआ था उन्होंने फटाफट इसको फोन से हटाना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं लोग स्नैपचैट को डिलीट करने वाला स्क्रीनशॉट भी शेयर कर रहे थे। कई लोगों ने प्ले स्टोर पर जाकर स्नैपचैट के ऐप को एक स्टार दिया, जिससे उसकी रेटिंग गिर गई।

स्नैपचैट का हेडक्वॉटर लॉस एंजिल्स, कैलिफॉर्निया में है। पिछले कुछ दिनों में यह ऐप काफी चलन में आया है। इस इमेज मैसेजिंग ऐप को अबतक 500 मिलियन से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। इसको 2011 में सैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट ईवान स्पीगल, बॉबी मुर्फी और रेज्जी ब्राउन ने बनाया था।

तस्वीरें में देखिए कैसे यूजर्स ने लिए मजे:

Next Stories
1 सिख संस्कृति से सराबोर हुआ अमेरिका का टाइम्स स्क्वेयर, टर्बन डे के मौके पर 8 हजार अमेरिकियों को बांधी पगड़ियां
2 अफगानिस्तान पर गिरे ‘मदर अॉफ अॉल बॉम’ से पाकिस्तान भी दहला, कई मस्जिदों और इमारतों में पड़ी दरार
3 प्रेमी को मिली ‘प्यार’ की सजा, गर्लफ्रेंड के पिता ने प्राइवेट पार्ट काटकर निकाली आंखें
ये पढ़ा क्या?
X