पाक ने की संराष्ट्र से शिकायत: LoC पर दीवार की योजना बना रहा है भारत - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पाक ने की संराष्ट्र से शिकायत: LoC पर दीवार की योजना बना रहा है भारत

पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से शिकायत करते हुए यह आरोप लगाया है कि भारत नियंत्रण रेखा पर एक दीवार के निर्माण की योजना बना रहा है..

Author संयुक्त राष्ट्र | September 26, 2015 9:09 AM
संयुक्त राष्ट्र। (फोटो-रॉयटर्स)

पाकिस्तान ने द्विपक्षीय संबंधों में एक नया रोड़ा डालते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से शिकायत करते हुए यह आरोप लगाया है कि भारत वैश्विक निकाय के प्रस्तावों का उल्लंघन करते हुए नियंत्रण रेखा पर एक दीवार के निर्माण की योजना बना रहा है।

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोधी ने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष रूसी राजदूत विताली चर्किन को लिखे पत्र में आरोप लगाया है कि भारत जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान के बीच स्थित 197 किलोमीटर लंबी कामकाजी सीमा पर 10 मीटर ऊंचा और 135 फुट चौड़ा पुश्ता (दीवार) बनाने की योजना बना रहा है।

पाकिस्तान के मुताबिक, दीवार की योजना इसलिए बनाई गई है ताकि नियंत्रण रेखा को ‘एक अर्ध अंतरराष्ट्रीय सीमा’ में तब्दील किया जा सके। भारत ने कथित दीवार की योजना के आरोप पर तत्काल कोई सीधी प्रतिक्रिया नहीं जताई है। लेकिन लोधी की ओर से क्रमश: चार सितंबर और नौ सितंबर को लिखे गए दो पत्रों की सामग्री को विरोधाभासी बताया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने यहां पत्रकारों से कहा कि भारत इन दावों का एक उचित समय पर जवाब देगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ यहां वाल्डोर्फ एस्टोरिया होटल में रुके हुए हैं। लेकिन लोधी के पत्रों में पाकिस्तान का जो रुख झलकता है उससे यह प्रतीत होता है कि इसने संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर दोनों देशों के नेताओं के बीच किसी बैठक की संभावना को और कम कर दिया है।

नौ सितंबर की तारीख वाले पत्र में लोधी ने हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के एक बयान के आधार पर कथित दीवार को लेकर गहरी चिंता जताई। सलाहुद्दीन को स्वरूप ने वैश्विक आतंकवादी करार दिया।

स्वरूप ने कहा, ‘मेरा मानना है कि दूसरा पत्र (नौ सितंबर की तारीख वाला) सलाहुद्दीन के किसी बयान पर आधारित है। वह ऐसा व्यक्ति है जिसे हम एक वैश्विक आतंकवादी मानते हैं। हम उचित समय पर इसका जवाब देंगे’।

चार सितंबर की तारीख वाले पहले पत्र में कहा गया है कि कोई द्विपक्षीय वार्ता नहीं हुई है। स्वरूप ने इसका खंडन करते हुए कहा कि बीएसएफ और पाक रेंजर्स के बीच बैठक पहले ही हो चुकी है। स्वरूप ने कहा, ‘इसलिए वह पत्र अपने आप में विरोधाभासी है कि कोई वार्ता नहीं हुई है। बातचीत हुई है’।

उन्होंने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र की ओर से क्या इन पत्रों पर कोई कदम उठाया गया है। यह पहला सवाल है। संयुक्त राष्ट्र की ओर से यदि कदम उठाया जाता है हम उचित जवाब देंगे। यदि संयुक्त राष्ट्र की ओर से कोई कदम नहीं उठाया जाता है तब इसका मतलब यह होगा कि पत्रों का किसी ने भी संज्ञान नहीं लिया है’।

पत्र में लोधी ने कहा है कि पाकिस्तान ‘पुश्ते को एक स्थायी ढांचा मानता है जो सुरक्षा परिषद के 1948 के प्रस्ताव का उल्लंघन करते हुए क्षेत्र में एक भौतिक बदलाव लाएगा’। लोधी ने कहा, ‘जम्मू कश्मीर राज्य अंतरराष्ट्रीय रूप से मान्य विवादित क्षेत्र है और जम्मू-कश्मीर के आधिकारिक दर्जे को लेकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के कई प्रस्ताव अभी लागू नहीं हुए हैं’।

अर्ध अंतरराष्ट्रीय सीमा बनाने की कोशिश:

भारत जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान के बीच स्थित 197 किलोमीटर लंबी कामकाजी सीमा पर 10 मीटर ऊंचा और 135 फुट चौड़ा पुश्ता (दीवार) बनाने की योजना बना रहा है। दीवार की योजना इसलिए बनाई गई है ताकि नियंत्रण रेखा को ‘एक अर्ध अंतरराष्ट्रीय सीमा’ में तब्दील किया जा सके।… मलीहा लोधी, संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत

समय पर देंगे माकूल जवाब:
भारत ने कथित दीवार की योजना के आरोप पर तत्काल कोई सीधी प्रतिक्रिया नहीं जताई है। लेकिन लोधी की ओर से क्रमश: चार सितंबर और नौ सितंबर को लिखे गए दो पत्रों की सामग्री को विरोधाभासी बताया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि भारत इन दावों का एक उचित समय पर माकूल जवाब देगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App