ताज़ा खबर
 

गाजा में विस्फोट, बाल-बाल बचे फिलिस्तीनी प्रधानमंत्री

फिलिस्तीनी न्यूज एजेंसी वाफा ने कहा कि हमदल्ला और फिलिस्तीनी खुफिया सेवा के प्रमुख मजीद फराज भी विस्फोट में बाल-बाल बच गए। विस्फोट में सात लोग घायल हुए हैं।

Author गाजा | March 13, 2018 7:34 PM
फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री रामी हमदल्ला। (Photo: Reuters)

फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री रामी हमदल्ला मंगलवार को गाजा पट्टी की यात्रा के दौरान उनके काफिले को निशाना बनाकर किए गए हमले में बाल-बाल बच गए। गृह मंत्रालय ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार, हमदल्ला एक अपशिष्ट जल शोधन संयंत्र का उद्घाटन करने और अधिकारियों से मुलाकात करने के लिए गाजा आए थे। फिलिस्तीनी न्यूज एजेंसी वाफा ने कहा कि हमदल्ला और फिलिस्तीनी खुफिया सेवा के प्रमुख मजीद फराज विस्फोट में बाल-बाल बच गए। विस्फोट में सात लोग घायल हुए हैं।

अभी तक किसी भी संगठन ने विस्फोट की जिम्मेदारी नहीं ली है। हालांकि, फिलिस्तीनी नेशनल ऑथोरिटी ने हमास को इस विस्फोट के लिए जिम्मेदार ठहराया है। दूसरी तरफ, डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन मध्य-पूर्व में शांति लाने की अपनी बहुप्रतीक्षित योजना को अंतिम रूप दे रहा है और जल्द ही अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा इसे पेश करने की उम्मीद है। आधिकारिक सूत्रों ने ‘द न्यूयार्क टाइम्स’ को रविवार को बताया कि इस योजना को जारी करने का कोई समय अभी निश्चित नहीं हुआ है।

व्हाइट हाउस के लिए तुरंत की चुनौती यह है कि इसका कार्यान्वयन कैसे किया जाए ताकि इसके लागू होते ही इसे असफल घोषित न किया जा सके। ट्रंप द्वारा जेरूसलम को इजरायल की राजधानी मानने के निर्णय के बाद से फिलिस्तीनी अभी भी आक्रोशित हैं और व्हाइट हाउस द्वारा वार्ता के अनुरोध को उन्होंने नकार दिया है। आधिकारिक सूत्रों ने दैनिक समाचार पत्र को बताया कि प्रशासन इस उम्मीद से दस्तावेजों का खुलासा करने पर विचार कर रहा है कि इससे फिलिस्तीन पर शांति वार्ता के लिए वापस आने का दबाव पड़ेगा।

‘द हिल’ नामक एक पत्रिका की रपट के अनुसार ट्रंप ने फिलिस्तीन और इजरायल के बीच शांति समझौते में मध्यस्थता करने का वचन दिया है। उन्होंने कूटनीतिक अनुभवों की कमी होने के बावजूद अपने दामाद और वरिष्ठ सलाहकार जेरेड कुशनेर को इस दिशा में एक प्रस्ताव बनाने का काम सौंपा है। यह प्रस्ताव ऐसे समय जारी किए जाने हैं जब इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण राजनैतिक अनिश्चितता सामना कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App