पाकिस्तानी तालिबान के भी बढ़े हौसले, पत्रकारों की दी धमकी, बोले- आतंकवादी कहना छोड़ दें

टीटीपी के प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी ने सोमवार को सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा कि उनका संगठन मीडिया की उन खबरों पर नजर रख रहा है, जिसमें टीटीपी के लिए “आतंकवादी और चरमपंथी”जैसे विशेषणों का इस्तेमाल किया जाता है।

Pakistan Taliban,Tehreek i Taliban Pakistan, Tehreek-e-Taliban pakistan media warning, pakistan media warnig Tehreek-e-Taliban, Tehreek-e-Taliban warning to journalist, Tehreek-e-Taliban pakistan warning, Tehreek-e-Taliban statement on journalist, statement pakistan journalist warning, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान मीडिया धमकी, पाकिस्तान मीडिया धमकी तहरीक-ए-तालिबान, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान मीडिया चेतावनी, तहरीक-ए-तालिबान चेतावनी पाकिस्तान मीडिया, Asia Hindi News, jansatta
पाकिस्तानी तालिबान ने ‘‘आतंकवादी और चरमपंथी’’ कहे जाने को लेकर पत्रकारों को चेतावनी दी। (express file)

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) यानी पाकिस्तानी तालिबान ने अपने मीडिया और पत्रकारों को धमकी दी है। टीटीपी का कहना है कि मीडिया उन्हें “आतंकवादी” कहना बंद करे नहीं उन्हें शत्रु माना जाएगा। टीटीपी के प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी ने सोमवार को सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा कि उनका संगठन मीडिया की उन खबरों पर नजर रख रहा है, जिसमें टीटीपी के लिए “आतंकवादी और चरमपंथी”जैसे विशेषणों का इस्तेमाल किया जाता है।

‘डॉन’ समाचारपत्र ने टीटीपी के ऑनलाइन बयान के हवाले से कहा, ‘‘टीटीपी के लिए इस तरह के विशेषणों का इस्तेमाल करना मीडिया और पत्रकारों की पक्षपातपूर्ण भूमिका को दर्शाता है।’’ खुरासानी ने कहा, ‘‘टीटीपी के लिए इस तरह के विशेषण के इस्तेमाल का मतलब है कि पेशेवर मीडिया अपने कर्तव्य के प्रति बेईमान है और वे अपने लिए दुश्मन पैदा करेंगे।’’

खुरासानी ने कहा कि इसलिए मीडिया को उन्हें तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के नाम से संबोधित करना चाहिए। पाकिस्तानी तालिबान का गठन 2007 में हुआ था और सरकार ने अगस्त 2008 में नागरिकों पर लक्षित हमलों के बाद इसे एक प्रतिबंधित संगठन के रूप में सूचीबद्ध किया था।

टीटीपी का पहला प्रमुख बैतुल्ला महसूद 2009 में अमेरिका द्वारा ड्रोन हमले में मारा गया था। पाकिस्तान सरकार ने 2014 की अपनी राष्ट्रीय कार्य योजना में टीटीपी के सहयोगी समूहों पर प्रतिबंध लगा दिया था और मीडिया द्वारा तथाकथित ‘‘आतंकवादियों के महिमामंडन’’ किये जाने पर रोक लगा दी थी। आतंकवाद के खिलाफ सरकार की लड़ाई की चपेट में आकर अभी तक कई पाकिस्तानी पत्रकार मारे गए हैं।

वहीं अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार को रैली को तितर-बितर करने के लिए तालिबान लड़ाकों ने गोलीबारी की और प्रदर्शन को कवर कर रहे कई अफगान पत्रकारों को गिरफ्तार कर लिया। यह जानकारी चश्मदीदों और अफगान मीडिया ने दी है।

काबुल स्थित पाकिस्तानी दूतावास के सामने पाकिस्तान के आंतरिक मामले में पाकिस्तान के कथित हस्तक्षेप के खिलाफ प्रदर्शन हुआ, खासतौर पर इस्लामाबाद द्वारा पंजशीर में तालिबान विरोधी लड़ाकों के खिलाफ तालिबान की कथित मदद के विरोध में ।

सोशल मीडिया पर कई पोस्ट किए गए हैं जिनमें पत्रकारों को रिहा करने की मांग की गई है। जिन पत्रकारों को हिरासत में लिया गया था और बाद में रिहा किया गया उनमें से एक अफगान पत्रकार ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि उसे तालिबान ने सजा दी।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।