ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ को फांसी की सजा, स्पेशल कोर्ट ने देशद्रोह मामले पर दिया फैसला

इस्लामाबाद में तीन जजों की बेंच ने यह फैसला सुनाया। मुशर्रफ इस समय दुबई में रह रहे हैं।

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ।

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई गई है। पूर्व राष्ट्रपति को राजद्रोह के मामले में स्पेशल कोर्ट ने मंगलवार (17 दिसंबर) को यह सजा सुनाई। इस्लामाबाद में तीन जजों की बेंच ने यह फैसला सुनाया। मुशर्रफ इस समय दुबई में रह रहे हैं।

उन पर 2013 में राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। मुशर्रफ ने 3 नवंबर, 2007 को देश में इमरजेंसी लागू की थी जिसके बाद उन पर इसके लिए मुकदमा दर्ज किया गया। इसके बाद 31 मार्च, 2014 को दोषी ठहराया गया था। बेंच ने करीब 5 साल बाद उनकी सजा तय की है।

पाकिस्तान की पूर्व मुस्लिम लीग नवाज सरकार ने यह मामला दर्ज कराया था। बता दें कि सजा सुनाए जाने से पहले मुशर्रफ लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) में एक याचिका दायर कर चुके हैं। इस याचिका में लंबित कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की गई है। इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए स्पेशल कोर्ट को 28 नवंबर को फैसला सुनाने से रोक दिया था।

बता दें कि आपातकाल लगाने के कारण बड़ी अदालतों के कई न्यायाधीश अपने घरों में बंधक बनकर रह गए थे, और करीब100 न्यायाधीशों को पद से हटा दिया गया था। मार्च 2016 में देश छोड़कर दुबई जाने वाले मुशर्रफ को अदालत ने मई, 2016 में घोषित भगोड़ा बताया था।

बता दें कि ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के संस्थापक मुशर्रफ अपने खराब स्वास्थ्य के कारण राजनीतिक गतिविधियों से दूर हैं। बीते साल पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था कि किसी नई बीमारी के कारण मुशर्रफ ‘तेजी से कमजोर होते जा रहे हैं’ और देशद्रोह के मुकदमे का सामना करने के लिए देश वापस नहीं आ सकते।

Next Stories
1 उपराष्ट्रपति की पत्नी ने किया अपने पति को मारने का प्रयास, पुलिस ने किया गिरफ्तार, धोखाधड़ी और मनी-लॉन्ड्रिंग का केस भी दर्ज
2 दुनिया की सबसे कम उम्र की प्रधानमंत्री बनी सना मरिन, महज सात साल से सक्रिय हैं राजनीति में
3 ‘असम एकजुट है और कैब विभाजनकारी है’, नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ लंदन में प्रदर्शन
ये पढ़ा क्या?
X