ताज़ा खबर
 

पेशी में राहत के लिए दी गई मुशर्रफ की मेडिकल रिपोर्ट को कोर्ट ने बताया ‘फर्जी’

पाकिस्तान की एंटी टेररिस्ट कोर्ट ने शुक्रवार को पूर्व मिलिट्री डायरेक्टर परवेज मुशर्रफ की मेडिकल रिपोर्ट को फर्जी करार दे दिया। कोर्ट ने मुशर्रफ की माफी याचिका को अस्वीकार करते हुए यह टिप्पणी दी।

Author April 22, 2016 9:07 PM
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ। (फाइल फोटो)

पाकिस्तान की एंटी टेररिस्ट कोर्ट ने शुक्रवार को पूर्व मिलिट्री डायरेक्टर परवेज मुशर्रफ की मेडिकल रिपोर्ट को फर्जी करार दे दिया। कोर्ट ने मुशर्रफ की माफी याचिका को अस्वीकार करते हुए यह टिप्पणी दी। मालूम हो कि 72 साल के मुशर्रफ की विदेश यात्राओं पर कोर्ट द्वारा बैन लगा दिया गया था। हाल ही में उन्हें कोर्ट द्वारा विदेश यात्राओं के लिए छूट दे दी गई थी जिसके बाद वह तथाकथिक रूप से इलाज के लिए दुबई गए थे।

मुशर्रफ के वकील अख्तर शाह ने कोर्ट में पूर्व आर्मी चीफ की 6 अप्रैल की मेडिकल रिपोर्ट पेश की थी। जिसकी बिनाह पर उन्हें रावलपिंडी कोर्ट में पेशी में अस्थाई रियायत दिए जाने की मांग की थी। हालांकि कोर्ट ने साल 2007 में न्यायाधीशों को हिरासत में लेने के मामले में न्यायालय में उपस्थिति से छूट की उनकी याचिका को खारिज कर दिया।

न्यायाधीशों ने उनकी याचिका को खारिज करते हुए उनके खिलाफ जारी गिरफ्तारी के गैर जमानती वारंट को बरकरार रखा। हालांकि इस्लामाबाद पुलिस ने कहा है कि मुशर्रफ के गैर जमानती वारंट पर तामील नहीं की जा सकती क्योंकि वह इस वक्त दुबई में हैं। न्यायाधीश ने इस्लामाबाद के पुलिस महानरीक्षक से कहा कि 20 मई की अगली सुनवाई में मुशर्रफ को अदालत के समक्ष पेश करने के उपाय करें। एंटी टेररिस्ट कोर्ट (एटीसी) के जज सोहैल इकराम ने माना कि कोर्ट में पेश की गई मेडिकल रिपोर्ट्स अप्रैल की हैं जबकि मुशर्रफ ने मार्च में ही देश छोड़ दिया है।

मुशर्रफ के वकील ने कहा कि उनके मुवक्किल अदालत में उपस्थित हो सकते हैं, हालांकि यह इस बात पर निर्भर करता है कि चिकित्सक उनको इसकी इजाजत दें और पुलिस उनको सुरक्षा प्रदान करे। पाकिस्तानी अदालत ने मुशर्रफ की मेडिकल रिपोर्ट को ‘फर्जी’ बताया

पाकिस्तान की एक आतंकवाद विरोधी अदालत ने आज पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ की मेडिकल रिपोर्ट को ‘फर्जी’ करार दिया। सुप्रीम कोर्ट की ओर से विदेश दौरे पर लगी पाबंदी हटाए जाने के बाद 72 वर्षीय मुशर्रफ पिछले महीने दुबई चले गए थे। मुशर्रफ के वकील अख्तर शाह ने दलील दी कि बीते छह अप्रैल को पूर्व सेना प्रमुख की मेडिकल रिपोर्ट रावलपिंडी स्थित अदालत में उपस्थिति से छूट देने के लिए अनुरोध पत्र के साथ दायर की गई थी, लेकिन

आतंकवाद विरोधी अदालत के न्यायाधीश सुहैल इकराम ने कहा कि मुशर्रफ मार्च महीने में देश से बाहर चले गए और अदालत में पेश की गई रिपोर्ट अप्रैल महीने की है। इस पर, न्यायाधीश ने कहा कि मुशर्रफ बीते डेढ़ साल से अदालत में उपस्थित नहीं हुए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App