ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक महिलाओं को वेश्यावृत्ति के लिए भेजते थे चीन! बड़े रैकेट का भंडाफोड़

आरोपियों ने बताया कि चीन भेजी गई लड़कियों में अधिक तादाद ईसाईयों की थी जिन्हें पंजाब प्रांत के अलग-अलग जिलों से लाया गया।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

पाकिस्तानी अधिकारियों ने सोमवार (6 मई, 2019) को बताया कि उन्होंने वेश्यावृत्ति में लिप्त संगठन से जुड़े 12 संदिग्ध सदस्यों को गिरफ्तार किया है। ये पाकिस्तानी महिलाओं को चीन ले जा रहे थे। पाकिस्तान फेडरल जांच एजेंसी (FIA) के आला अधिकारी जमील अहमद ने बताया कि गिरफ्तार संदिग्धों में आठ चीन के नागरिक हैं जबकि चार सदस्य पाकिस्तान मूल के हैं। मानव तस्करी के मामले की जांच कर रहे जमील अहमद ने बताया, ‘FIA ने पाकिस्तानी महिलाओं की चीन में बढ़ती तस्करी की जानकारी मिलने के बाद इस गिरोह का भंडाफोड़ किया, जहां इन महिलाओं को वेश्यावृत्ति में धकेला जा रहा था।’ उन्होंने कहा कि इस काम में कई गिरोह सक्रिय थे, जो मुख्य रूप से पाकिस्तान के ईसाई अल्पसंख्यकों को निशाना बना रहे थे।

वेश्यावृत्ति मामले में यह गिरफ्तारियां ऐसे समय में हुईं जब ह्यूमन राइट्स वॉच ने एक सप्ताह पहले अपनी रिपोर्ट में बताया कि पाकिस्तान को हाल की उन रिपोर्ट्स से चिंतित होना चाहिए जिसमें महिलाओं और लड़कियों को तस्करी कर उन्हें चीन भेजा जा रहा है। रिपोर्ट में कहा गया कि कम से कम पांच अन्य एशियाई देशों से चीन को महिलाओं और लड़कियों की तस्करी की जा रही है।

मामले में इस्लामाबाद स्थित चीनी दूतावास ने भी अवैध, क्रॉस-बॉर्डर मानव तस्करी पर चिंता जाहिर की। पिछले महीने चीनी दूतावास ने कहा कि चीन अवैध मंगनी पर नकेल कसने के लिए पाकिस्तानी कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ सहयोग कर रहा है। दरअसल मानव तस्करी के जरिए चीन में महिलाओं की अवैध मंगनी या शादी की जा रही थी। हालांकि दूतावास ने उन रिपोर्टों का खंडन किया जिसमें महिलाओं को उनके अंगों की ब्रिकी के लिए बेचा जा रहा था। दूतावास ने इन खबरों को आधारहीन और भ्रामक बताया है।

FIA अधिकारी जमील अहमद ने बताया कि मामले का खुलासा तब हुआ जब पुलिस टीम ने छापा मारकर एक शादी समारोह में भंडाफोड़ किया। यहां चीन की एक महिला और एक पुरुष  के अलावा एक फर्जी पादरी को शादी समारोह में गिरफ्तार किया गया, जहां एक ईसाई लड़की की शादी होनी थी। यहां संगठन के सदस्यों ने स्वीकार किया कि वो कम से कम 36 पाकिस्तानी लड़कियों को चीन भेज चुके हैं जहां उनका इस्तेमाल वेश्यावृत्ति के लिए किया जा रहा है। आरोपियों ने बताया कि चीन भेजी गई लड़कियों में अधिक तादाद ईसाईयों की थी जिन्हें पंजाब प्रांत के अलग-अलग जिलों से लाया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App