ताज़ा खबर
 

सऊदी अरब के कहने पर पाक ने ओसामा को पकड़ा, US से हुई थी मारने की डील: अमेरिकी पत्रकार

अमेरिका के एक वरिष्ठ पत्रकार ने दावा किया है कि ओसामा बिन लादेन मौत के चार साल पहले तक पाकिस्तान के कब्जे में था। पुलित्जर अवॉर्ड विजेता पत्रकार सैमूर हर्श ने दावा किया है।

Author April 28, 2016 8:56 AM
लादेन की पत्नी ने बताई उस रात की कहानी।

अमेरिका के एक वरिष्ठ पत्रकार ने दावा किया है कि ओसामा बिन लादेन मौत के चार साल पहले तक पाकिस्तान के कब्जे में था। पुलित्जर अवॉर्ड विजेता पत्रकार सैमूर हर्श ने दावा किया है कि ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान और अमेरिका की डील की वजह से मारा गया था। उन्‍होंने नए सबूतों का हवाला देते हुए पाकिस्‍तान के बयान पर सवाल उठाए जिसमें उसकी ओर से कहा गया था कि उसे लादेन को मारने की जानकारी नहीं थी हर्श ने कहा कि अगर अमेरिकी अफसरों को उनके दावों पर एतराज है तो वे उनकी बात को गलत साबित करके दिखाएं। बता दें कि ओसामा को एबटाबाद में 2011 में मारा गया था।

पाकिस्‍तानी न्‍यूज चैनल डॉन को दिए इंटरव्यू में हर्श ने कहा कि पिछले एक साल में उन्‍हें कई नए सबूत मिले हैं। इसके चलते उनका विश्‍वास मजबूत हुआ है कि ओसामा को लेकर अमेरिका और पाकिस्‍तान का बयान हकीकत से परे था। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान ने लादेन को 2006 से बंदी बना रखा था। ऐसा उसने सऊदी अरब के कहने पर किया। इसके बाद अमेरिका और पाकिस्‍तान में डील हुर्इ। इसमें पाकिस्‍तान ने कहा कि अमेरिका छापा मारकर ओसामा को खत्‍म करें लेकिन वह ऐसे दिखाएगा मानो उसे पता नहीं था।

HOT DEALS
  • Samsung Galaxy J3 Pro 16GB Gold
    ₹ 7490 MRP ₹ 8800 -15%
    ₹0 Cashback
  • Moto C Plus 16 GB 2 GB Starry Black
    ₹ 7999 MRP ₹ 7999 -0%
    ₹0 Cashback

उन्होंने कहा कि भारत की वजह से पाकिस्तान की एयरफोर्स हमेशा अलर्ट पर रहती है। उसके राडार हर चीज पर नजर रखते हैं और एफ-16 फाइटर जेट्स फ्लाइंग मोड पर रहते हैं। अगर इतना सबकुछ तैयार रहता है तो पाकिस्तानी आर्मी की नजर लादेन को मार गिराने आए अमेरिकी हेलिकॉप्टर्स पर क्यों नहीं पड़ी? बता दें कि हर्श ने पिछले साल भी एक लेख में भी ऐसा ही दावा किया था। इसके बाद अमेरिका को इसका खंडन करना पड़ा था।

उन्‍होंने कहा कि सेना और आईएसआई ने अमेरिका के साथ यह डील की थी। इससे कई पाकिस्‍तानी जनरल नाराज हो गए थे। इससे पाकिस्‍तान एयर डिफेंस कमांड के प्रमुख बहुत नाराज थे। वे इस राज को सार्वजनिक करने को तैयार हो गए थे। उन्‍हें चुप रखने के लिए रिटायरमेंट के बाद उन्‍हें पीआईए का चेयरमैन बनाया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App