ताज़ा खबर
 

कंगाल पाकिस्‍तान: IMF से मांगा 59 हजार करोड़ रुपए का कर्ज

सरकार की आईएमएफ से सहायता मांगने की इस घोषणा की भारी आलोचना हो रही है, लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सरकार के इस निर्णय का बचाव किया है।

पाकिस्तान ने IMF से कर्ज लेने के लिए संभावनाएं तलाशना शुरू कर दिया है।

बुरी तरह कर्ज में फंसे पाकिस्तान ने आईएमएफ से 8 बिलियन अमरीकी डॉलर तक का सबसे बड़ा कर्ज पैकेज मांगा है। यह कर्ज पाकिस्तान सरकार ने अपनी अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने के लिए मांगा है। पाकिस्तान के डॉन अखबार की रिपोर्ट में कहा गया है कि इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (आईएमएफ) पैकेज देने के लिए पाकिस्तान के सामने कड़ी शर्तें रख सकता है, इन शर्तों को पूरा करने के लिए पाकिस्तान ज्यादा कर्ज की मांग सकता है और कर्ज की मांग 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक हो सकती है। पाकिस्तान ने IMF से कर्ज लेने के लिए संभावनाएं तलाशना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) पीएमएल-एन के सत्ता में रहने और अंतरिम सरकार के दौरान भी इसपर चर्चा हुई थी।

हालांकि फाइनल निर्णय सोमवार की रात को घोषित किया गया था जब वित्त मंत्री असद उमर ने पुष्टि की थी कि सरकार अपने विदेशी मुद्रा संकट से पाकिस्तान को बचाने के लिए आईएमएफ जा रही है। इस घोषणा के बाद पाकिस्तान का शेयर बाजार 1,300 अंक नीचे चला गया। इससे करीब 270 अरब डॉलर का नुकसान हुआ। यह गिरावट पिछले एक दशक में एक दिन में सबसे ज्यादा थी। आईएमएफ ने कहा कि वह वित्तीय समर्थन के लिए पाकिस्तान के अनुरोध को “बहुत, बहुत सावधानीपूर्वक” सुनेगा, जैसा कि किसी भी सदस्य के साथ अच्छी स्थिति में किया गया था। पाकिस्तान आईएमएफ से इससे पहले भी एक दर्जन से ज्यादा वित्तीय पैकेज ले चुका है।

अगस्त 2016 में यह 6.4 अरब अमेरिकी डॉलर का तीन साल का पैकेज ले चुका है, जो आईएमएफ में पाकिस्तान के कोटे का 216 प्रतिशत था। इस बीच, सरकार की आईएमएफ से सहायता मांगने की इस घोषणा की भारी आलोचना हो रही है, लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सरकार के इस निर्णय का बचाव किया। खान ने कहा कि पिछली सरकार द्वारा लिए गए कर्ज के कारण देश पर कर्ज का बोझ है और उनकी सरकार को उन ऋणों का भुगतान करने के लिए अधिक पैसा उधार लेना पड़ेगा। देश में बहुत शोर हो रहा है, जैसे कि कोई गुफा गिरने जा रही हो, लेकिन हमें यह करना होगा। हमें अपनी सरकार के रिफॉर्म शुरू करने से पहले इसकी जरूरत है। छह महीने में इसके रिजल्ट दिखने लगेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App