पाकिस्तान: ISIS ने ब्लूचिस्तान में दो चीनी नागरिकों को मौत के घाट उतारा, CPEC से जुड़े पाकिस्तानियों को सिखाते थे मंडेरिन भाषा - Pakistan: Two Chinese nationals killed by ISIS in Balochistan - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान: ISIS ने ब्लूचिस्तान में दो चीनी नागरिकों को मौत के घाट उतारा, CPEC से जुड़े पाकिस्तानियों को सिखाते थे मंडेरिन भाषा

खबरों के मुताबिक ISIS ने इन दोनों चीनी नागरिकों को बंधक बनाकर रखा हुआ था। ये दोनों चीनी नागरिक पेशे से शिक्षक थे और पाकिस्तान में लोगों की मंडेरिन भाषा सिखाते थे।

हाल ही में पाकिस्तान आर्मी ने ISIS आतंकियों के खिलाफ ब्लूचिस्तान में ऑपरेशन चलाया था (Source-ANI file photo)

पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत में आतंकी संगठन ISIS ने दो चीनी नागरिकों की हत्या कर दी है। ये घटना ब्लूचिस्तान के मस्तूंग जिले की है। समाचार एजेंसी एएनआई से मिली खबरों के मुताबिक SITE इंटेलीजेंस ग्रुप नाम की संस्था ने ये दावा आतंकी संगठन ISIS के मीडिया विंग अमाक़ (Amaq) के हवाले से किया है। खबरों के मुताबिक ISIS ने इन दोनों चीनी नागरिकों को बंधक बनाकर रखा हुआ था। ये दोनों चीनी नागरिक पेशे से शिक्षक थे और पाकिस्तान में लोगों की मंडेरिन भाषा सिखाते थे। इन्हें ISIS आतंकियों ने 24 जून को क्वेटा के जिन्ना टाउन से किडनैप किया था।

ये घटना पाकिस्तानी सेना द्वारा उस दावे के तुरंत बाद हुई है जिसमें पाक आर्मी ने कहा था कि उन्होंने मस्तुंग जिले में ISIS के कई टॉप कमांडरों को मार गिराया है। खुफिया जानकारी के मुताबिक ISIS आतंकियों ने चीन के कुछ नागरिकों को अपने कब्जे में कर रखा था। बता दें कि पिछले कुछ सालों ने पाकिस्तान में चीनी नागरिकों की आवाजाही बढ़ गई है। ये चीनी नागरिक पाकिस्तान में बन रहे सीपैक (CPEC) से जुड़े हैं। CPEC चीन और पाकिस्तान के बीच एक अहम आर्थिक गलियारा है, इसे बनाने के लिए चीन पाकिस्तान में अरबों डॉलर का निवेश कर रहा है। पाकिस्तान ने अपने देश में चीनी नागरिकों की सुरक्षा के लिए 15 हजार सुरक्षा बलों को तैनात कर रखा है।

चीनी नागरिकों के अगवा होने की खबरें मीडिया में आने के बाद चीन ने कहा था कि वो अपने नागरिकों को रिहा कराने की सारी कोशिशें करेगा। इसके अलावा चीन ने कहा था वो हर हालत में पाकिस्तान में मौजूद अपने नागरिकों और एजेंसियों को सुरक्षा मुहैया कराएगा। सीपैक अक्सर आतंकियों के निशाने पर रहता है। इससे पहले इस गलियारे के निर्माण में जुटे मज़दूरों की भी हत्या कर दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App