ताज़ा खबर
 

सिंधु समझौते को लेकर PAK ने भारत को दी यह धमकी

नेशनल एसेंबली को संबोधित करते हुए सरताज अजीज ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत भारत खुद को समझौते से अलग नहीं कर सकता है। कहा जा रहा है कि पाकिस्‍तान के साथ सिंधु जल संधि पर भारत सख्‍ती बरत सकता है।

Author कराची | September 27, 2016 6:27 PM
पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ। (फाइल फोटो)

उरी हमले के बाद भारत की ओर से सिंधु जल संधि की समीक्षा किए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखाला गया है। पाकिस्तान की ओर से इस मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस जाने की धमकी दी गई है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहाकार सरताज अजीज ने दावा किया कि अगर भारत ने सिंधु जल संधि (Indus Water Treaty) का उल्लंघन किया तो इस मामले को लेकर पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) जाएगा। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सिंधु जल समझौते को लेकर अहम बैठक की थी, बैठक में समझौते के फायदे और नुकसान के बारे में पीएम मोदी को बताया गया।

नेशनल एसेंबली को संबोधित करते हुए सरताज अजीज ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत भारत खुद को समझौते से अलग नहीं कर सकता है। अजीज ने दावा किया कि यह संधि कारगिल और सियाचिन युद्ध के दौरान भी रद्द नहीं हुई थी। इससे पहले पूर्व सिंधु जल कमिश्नर जमात अली शाह ने सोमवार को सिंधु नदी की धारा को रोके जाने की धमकी पर भारत पर निशाना साधा था।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में नई दिल्ली में सोमवार को सिन्धु जल संधि की समीक्षा के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। जिसके बाद कहा गया कि पाकिस्‍तान के साथ सिंधु जल संधि पर भारत सख्‍ती बरत सकता है। सूत्रों के अनुसार जल संसाधन मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि खून और पानी एकसाथ नहीं बह सकते। बताया जा रहा है कि पाकिस्‍तान का पानी रोका जा सकता है। इसके साथ ही एक अन्‍य उपाय के रूप में उसको दिए जाने वाले पानी में कटौती की जा सकती है।

READ ALSO: सिंधु जल संधि पर सख्‍त सरकार, पीएम मोदी ने कहा- पानी और खून एक साथ नहीं बहेगा

सिंधु जल समझौते पर सितंबर 1960 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अयूब खान ने हस्ताक्षर किये थे। इस समझौते के तहत छह नदियों, व्यास, रावी, सतलज, सिंधु, चिनाब और झेलम के पानी को दोनों देशों के बीच बांटा गया था। पाकिस्तान की यह शिकायत रही है कि उसे पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा और इसके लिए वह एक दो बार अन्तरराष्ट्रीय मध्यस्थता के लिए भी जा चुका है।

READ ALSO: वापस लिया जा सकता है पाकिस्‍तान से ‘मोस्‍ट फेवर्ड नेशन’ का दर्जा, गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे बैठक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ताइवान में मेगी तूफान की दस्तक, स्कूल-ऑफिस बंद, 36 हज़ार घरों में बिजली नहीं
2 इस्‍लामाबाद में भारत विरोधी प्रदर्शन, पोस्‍टर में आर्मी चीफ के हाथ में दिखाया नरेंद्र मोदी का कटा सिर
3 मैक्सिको: लापता 43 कॉलेज छात्रों के परिजनों ने की रैली, दो साल पहले हुए था अपहरण