ताज़ा खबर
 

पाक ने खालिस्तान मुद्दे पर भारतीय श्रद्धालुओं को भड़काने के आरोपों को किया खारिज

पाकिस्तान ने भारत के उन आरोपों को आज खारिज कर दिया कि उसने ‘ खालिस्तान ’ के मुद्दे पर ‘‘ भारतीय श्रद्धालुओं को भड़काने की कोशिश की।

Author इस्लामाबाद | April 17, 2018 7:05 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

पाकिस्तान ने भारत के उन आरोपों को आज खारिज कर दिया कि उसने ‘ खालिस्तान ’ के मुद्दे पर ‘‘ भारतीय श्रद्धालुओं को भड़काने की कोशिश की। ’’ भारत ने नयी दिल्ली में पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को कल सम्मन किया था और पाकिस्तान की यात्रा के दौरान सिख तीर्थयात्रियों को खालिस्तान के मुद्दे पर भड़काने की कोशिशों पर कड़ा विरोध दर्ज कराया था। भारत ने इस्लामाबाद से देश की संप्रभुत्ता और क्षेत्रीय अखंडता को कम करने के मकसद वाली ऐसी सभी गतिविधियों को तुरंत बंद करने के लिए कहा।

भारत के कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा , ‘‘ ऐसा झूठ फैलाकर भारत ने सिख तीर्थयात्रियों की यात्रा को लेकर जानबूझकर विवाद पैदा किया है। सिख तीर्थयात्री बैसाखी और खालसा जन्मदिन समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान आए हुए हैं। ’’ उसने कहा कि पाकिस्तान , भारत समेत दुनियाभर के हिंदू और सिख तीर्थयात्रियों का स्वागत करता है।

HOT DEALS
  • Micromax Dual 4 E4816 Grey
    ₹ 11978 MRP ₹ 19999 -40%
    ₹1198 Cashback
  • Apple iPhone 7 128 GB Jet Black
    ₹ 52190 MRP ₹ 65200 -20%
    ₹1000 Cashback

विदेश कार्यालय ने कहा कि पाकिस्तान ने देश में पवित्र स्थलों की यात्रा के दौरान सिख तीर्थयात्रियों को अधिकतम सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए बंदोबस्त किए। उसने कहा कि सिख समुदाय भारत में एक विवादित फिल्म प्रर्दिशत करने के लिए भारत सरकार के खिलाफ विरोध कर रहा है। यह फिल्म उनकी धार्मिक भावनाओं को आहत करती है।  विदेश कार्यालय ने कहा , ‘‘ पाकिस्तान में सिख यात्रियों के पहुंचने से पहले ही भारत और दुनिया के दूसरे हिस्सों में ये प्रदर्शन शुरू हो गए थे। ’’ उसने बताया कि तनावपूर्ण स्थिति और सिख यात्रियों को भारतीय अधिकारियों से मिलने की अनुमति देने से स्पष्ट इनकार करने के मद्देनजर भारतीय उच्चायुक्त ने 14 अप्रैल 2018 को अपनी यात्रा रद्द कर दी।

उसने कहा , ‘‘ सच को तोड़ने मरोड़ने और तथ्यों को गलत तरीके से पेश करने की भारत की कोशिशें अनैतिक और खेदजनक हैं। भारत का कोई भी हथकंडा गलत को सही में नहीं बदल पाएगा। ’’ विदेश कार्यालय ने कहा कि भारत को सभी धर्मों खासतौर से अल्पसंख्यकों के संबंध में अंतरराष्ट्रीय और अंतर देशीय नियमों का सम्मान करना चाहिए तथा बेतुके उकसावे के ऐसे कदम से दूर रहना चाहिए जिससे पहले से ही तनावपूर्ण स्थिति और बिगडे़।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App