ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान ने टाला सार्क सम्‍मेलन, कहा- भारत ने समिट को पटरी से उतार दिया

SAARC Summit: पाकिस्‍तान की ओर से कहा गया कि इस्‍लामाबाद में 19वां सार्क सम्‍मेलन आयोजित करने के लिए नई तारीखों का एलान जल्‍द किया जाएगा।

अफगानिस्‍तान से वापस लौटते समय पीएम मोदी लाहौर रूके थे और नवाज शरीफ के घर भी गए थे। (File Photo)

पाकिस्तान ने अगले महीने यहां होने वाले दक्षेस सम्मेलन को शुक्रवार (30 सितंबर) को टाल दिया। दरअसल, भारत ने इस क्षेत्रीय संगठन के चार अन्य सदस्य देशों के साथ इस बैठक में शरीक नहीं होने का फैसला किया था। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘9-10 नवंबर 2016 को इस्लामाबाद में होने वाले 19 वें दक्षेस सम्मेलन में शरीक नहीं होने के जरिए दक्षेस प्रक्रिया को बाधित करने के भारत के फैसले की पाकिस्तान ने निंदा की है।’ इसने दावा किया कि दक्षेस चार्टर की भावना का उस वक्त ‘उल्लंघन’ हुआ जब एक सदस्य देश के द्विपक्षीय समस्या का प्रभाव क्षेत्रीय सहयोग के इस बहुपक्षीय मंच पर पड़ा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सम्मेलन में दक्षेस नेताओं की भागीदारी को लेकर उनका स्वागत करने की आशा कर रहे थे। सम्मेलन को सफल बनाने के लिए सारी तैयारियां हो गई थी। इसने आरोप लगाया कि सम्मेलन को पटरी से उतारने का भारत का फैसला क्षेत्र में गरीबी के खिलाफ लड़ने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फैसले का विरोधाभासी है। विदेश कार्यालय ने कहा, ‘उरी घटना को लेकर बेबुनियाद पूर्व मान्यताओं के आधार के पर सम्मेलन से अनुपस्थित रहने का भारत का फैसला कश्मीर में भारत द्वारा की जा रही ज्यादती से दुनिया का ध्यान भटकाने की एक नाकाम कोशिश है।’

पाक विदेश कार्यालय ने कहा, ‘दक्षेस के तहत क्षेत्रीय सहयोग को पाक काफी महत्व देता है, इसलिए, पाकिस्तान यथाशीघ्र इस्लामाबाद में 19 वें दक्षेस सम्मेलन का आयोजन करने को प्रतिबद्ध है ताकि क्षेत्रीय सहयोग का उद्देश्य दक्षेस के तहत अधिक तत्परता से बढ़ाया जा सके।’ विदेश कार्यालय ने कहा कि इस्लामाबाद में सम्मेलन आयोजित करने की नई तारीखों की घोषणा नेपाल के जरिए जल्द की जाएगी जो फिलहाल दक्षेस का अध्यक्ष है। इसने बताया, ‘‘इस मुताबिक, हमने नेपाल के प्रधानमंत्री को अवगत कराया है।’’

भारत के अलावा तीन अन्य देशों …बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान ने सम्मेलन से दूरी बना ली है। इन देशों ने सम्मेलन को सफल बनाने के लिए सही माहौल नहीं बनने को लेकर पाकिस्तान को परोक्ष रूप से जिम्मेदार ठहराया है। श्रीलंका ने भी शुक्रवार (30 सितंबर) को दक्षेस सम्मेलन से अपने पैर पीछे खींच लिए। वह ऐसा करने वाला पांचवा देश बन गया।

हाफिज सईद की धमकी- भारत से 1971 सहित कई बातों का बदला लेना है, कश्‍मीर अपने बांधों के साथ आजाद होगा

गौरतलब है कि पाकिस्तान द्वारा सीमा पार से लगातार आतंकवाद को प्रायोजित किए जाने का जिक्र करते हुए भारत ने इस हफ्ते की शुरुआत में घोषणा की थी कि मौजूदा हालात में भारत सरकार इस्लामाबाद में प्रस्तावित दक्षेस शिखर सम्मेलन में भाग लेने में सक्षम नहीं है। दक्षेस के सदस्य देशों में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, नेपाल और मालदीव, पाकिस्तान तथा श्रीलंका शामिल हैं।

पाकिस्तान के कब्जे में फंस गया चंदू बाबूलाल, खबर बर्दाश्त नहीं कर पाई नानी, हुई मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App