ताज़ा खबर
 

बगैर सबूत ‘तोहमत मढ़ने’ से पाकिस्तान हुआ नाराज, कहा- कश्मीर से ध्यान हटाने की कोशिश

कश्मीर में हिजबुल के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद तेजी से बिगड़ी मानवीय व मानवाधिकारों की स्थिति से ध्यान हटाने की भारत की कुंद कोशिश है।

Author इस्लामाबाद | September 20, 2016 2:10 AM
पाक प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज

पाकिस्तान ने सोमवार को भारत पर उड़ी हमले के बाद ‘तीखे’ और ‘अप्रमाणित’ बयान दे कर कश्मीर में अपने ‘आतंक के राज्य’ को छिपाने के लिए वैश्विक राय को गुमराह करने का आरोप लगाया। पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल रहील शरीफ ने भी सोमवार को अपने शीर्ष कमांडरों से मुलाकात की और कहा कि कश्मीर में 18 भारतीय सैनिकों के मारे जाने के बाद भारत के ‘शत्रुतापूर्ण बयान’ के मद्देनजर पाक सेना देश की सुरक्षा जरूरतों के प्रति सतर्क है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा कि पाकिस्तान ने रविवार को उड़ी में हुए हमले के बाद भारत के असैन्य और सैन्य नेतृत्व की ओर से आए ‘तीखे’ और ‘अप्रमाणित’ बयानों को गंभीर चिंता से लिया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों द्वारा लगाए गए बेबुनियाद और गैरजिम्मेदाराना आरोपों को स्पष्ट रूप से खारिज कर दिया है।

अजीज ने कहा कि यह कश्मीर में हिजबुल के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद तेजी से बिगड़ी मानवीय व मानवाधिकारों की स्थिति से ध्यान हटाने की भारत की कुंद कोशिश है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हालात पाकिस्तान ने तैयार नहीं किए हैं बल्कि अवैध भारतीय अतिक्रमण और उन ज्यादतियों के लंबे इतिहास की वजह से हैं जिनके कारण एक लाख से भी ज्यादा लोगों की जान  गई है। अजीज ने कहा, ‘सरकारी बलों ने महिलाओं, बच्चों, अस्पतालों में पड़े घायल मरीजों, बुजुर्गों… किसी को नहीं बख्शा। अब अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चेतना को जाग जाना चाहिए।

भारतीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि पाकिस्तान ‘एक आतंकवादी देश’ है और उसे अलग थलग किया जाना चाहिए। इस बयान पर प्रतिक्रिया में अजीज ने कहा कि समुचित जांच किए बिना ही मंत्री का पाकिस्तान पर दोष मढ़ देना निंदनीय है। अजीज ने कहा कि यह बयान कश्मीर में भारत के आतंक के राज को छिपाने और वैश्विक राय को गुमराह करने के कुचक्र का हिस्सा है। वेनेजुएला में हो रहे गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन में पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई कर रहे अजीज ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के घोषणापत्र के अनुसार कश्मीर मुद्दे का हल निकाले बिना दक्षिण एशिया में शांति स्थापित नहीं की जा सकती। अजीज ने एक बयान में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के घोषणापत्र को ध्यान में रखते हुए कश्मीरी लोगों की इच्छानुसार कश्मीर मुद्दे का हल निकालने का आह्वान करते हुए कहा कि दक्षिण एशिया में शांति के लिए यह जरूरी है।

विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा कि पाकिस्तान के रुख के अनुसार, निष्कर्ष दस्तावेज में आत्मनिर्णय के अधिकार के लिए ‘जायज’ संघर्ष को आतंकवाद के समकक्ष रखने के प्रयासों का साफ विरोध किया जाता है।पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल रहील शरीफ ने भी सोमवार को अपने शीर्ष कमांडरों से मुलाकात की और कहा कि कश्मीर में 18 भारतीय सैनिकों के मारे जाने के बाद भारत के ‘शत्रुतापूर्ण बयान’ के मद्देनजर पाक सेना देश की सुरक्षा जरूरतों के प्रति सतर्क है। पाक सेना ने एक बयान में बताया कि ‘कोर कमांडर्स कांफ्रेंस’ रावलपिंडी में हुई और इसकी अध्यक्षता जनरल शरीफ ने की। इसमें बाहरी व आंतरिक सुरक्षा हालात और सेना की संचालनात्मक (आॅपरेशनल) तैयारियों की समीक्षा की गई।

भारत की ओर से ‘शत्रुतापूर्ण बयान’ जारी करने पर गौर करते हुए जनरल शरीफ ने कहा कि हम पउड़ी तरह से अवगत हैं और क्षेत्र में हुई हालिया घटनाओं और पाकिस्तान की सुरक्षा पर उनके प्रभाव को करीब से देख रहे हैं। उन्होंने सेना की संचालनात्मक तैयारियों पर संतोष जाहिर करते हुए कहा कि पाकिस्तान के सशस्त्र बल प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष खतरों के समूचे परिदृश्य में जवाब देने को पउड़ी तरह से तैयार है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App