ताज़ा खबर
 

गिलगित-बाल्तिस्तान में सैन्य ढांचा बढ़ाएगा पाक, केंद्र में आर्थिक गलियारे की सुरक्षा

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने कहा कि उक्त स्थल थाक दास में है जो कि चिलास के पास एक बंजर जमीन का टुकड़ा है। यहां पर एक ब्रिगेड (पांच हजार कर्मी) रहेगा।
Author इस्लामाबाद | February 18, 2016 20:25 pm
ऐसी भी खबरें हैं कि पाकिस्तान गिलगित-बाल्तिस्तान के दर्जे का उन्नयन करके उसे अपने अन्य प्रांतों के बराबर करना चाहता है।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के गिलगित-बाल्तिस्तान क्षेत्र में पाकिस्तान ब्रिगेड स्तरीय सैन्य आधारभूत ढांचा स्थापित करने की योजना बना रहा है। पाकिस्तान यह चीन के साथ मिलकर निर्मित होने वाले महत्वाकांक्षी 46 अरब डॉलर की लागत वाले आर्थिक गलियारे को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए कर रहा है जो इस क्षेत्र से होकर गुजरने वाला है।

पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने बताया कि इस क्षेत्र के दायमर जिले में पाकिस्तानी सेना को एक जमीन का एक बड़ा टुकड़ा आवंटित किया जा रहा है ताकि वह ‘‘मुख्यालय’’ स्थापित कर सके और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर (सीपीईसी) के लिए सुरक्षा सुनिश्चित कर सके।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने कहा कि उक्त स्थल थाक दास में है जो कि चिलास के पास एक बंजर जमीन का टुकड़ा है। यहां पर एक ब्रिगेड (पांच हजार कर्मी) रहेगा। समाचार पत्र ने दायमर जिले के उपायुक्त उस्मान अहमद के हवाले से कहा, ‘‘सेना थाक दास में अपना मुख्यालय बनाएगी। इससे सीपीईसी प्रतिष्ठानों को सुरक्षा मुहैया कराने में मदद मिलेगी।’’

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि सेना जल्द ही औपचारिक रूप से जमीन को अपने अधिकार में लेगी और उस पर काम जल्द शुरू करेगी। सीपीईसी चीन के कम विकसित सुदूर पश्चिमी क्षेत्र को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होते हुए अरब सागर स्थित पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ेगा। सीपीईसी में सड़क, रेलवे, व्यापार क्षेत्र, ऊर्जा योजनाओं तथा पाइपलाइन का व्यापक एवं जटिल नेटवर्क होगा। ऐसी भी खबरें हैं कि पाकिस्तान गिलगित-बाल्तिस्तान के दर्जे का उन्नयन करके उसे अपने अन्य प्रांतों के बराबर करना चाहता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.