ताज़ा खबर
 

बेटे की बेरहमी से हत्या करने वाले 10 भारतीयों को पाकिस्तानी पिता ने किया माफ, कोर्ट ने दी थी मौत की सजा

पीड़ित परिवार को अब ब्लड मनी यानी मुआवजे के तौर पर 2 लाख दिरहम दिए जाएंगे।

मोहम्मद रियाज के बेटे फरहान की हत्या साल 2015 में की गई थी।

एक पाकिस्तानी शख्स ने अपने बेटे की हत्या आरोप में मौत की सजा पाए 10 भारतीयों को माफ कर दिया है। इस शख्स के बेटे की हत्या अबूधाबी में साल 2015 में हुई थी। बीबीसी उर्दू ने यह जानकारी दी है। वहीं पाकिस्तान एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक UAE की अदालत ने पिता को मुआवजा (ब्लड मनी) देने का अनुरोध स्वीकार कर लिया है। इसे पीड़ित परिवार को बतौर मुआवजा दिया जाता है। हालांकि कोर्ट को अब भी माफी देने का फैसला सुनाना है, जिसके बाद 10 भारतीयों को अपराध मुक्त कर दिया जाएगा। यूएई इस्लामिक लॉ या शरिया कानून को मानता है, जिसके मुताबिक पीड़ित परिवार ने दोषियों की मौत की सजा के खिलाफ अदालत में अपील कर सकता है, अगर पीड़ित पक्ष सबकुछ भूलकर दोषियों को माफ कर दे। मुहम्मद फरहान, जिसे एक विवाद पर कुछ भारतीयों ने जान से मार दिया था, के पिता मोहम्मद रियाज कहते हैं कि मैं अभागा था जो मैंने अपने बेटे को खो दिया। मैंने दस लोगों को माफी दी है। अल्लाह ने उनकी जिंदगी बचाई है।

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक रियाज ने कहा कि 10 लोगों की जिंदगी, जिसमें बीवी बच्चे और अन्य शामिल होते हैं, वह एक शख्स (जो यूएई काम करने आते हैं) की जिंदगी पर टिकी होती है। मैं आज की युवा पीढ़ी से अनुरोध करता हूं कि किसी भी तरह की लड़ाई में न फंसें। ब्लड मनी एक चैरिटेबल ट्रस्ट चलाने वाले और दुबई के बिजनेसमैन एसपी सिंह ओबरॉय द्वारा दी जाएगी। ब्लड मनी यूएई में रह रहे पुरुषों को दी जाती है, चाहे वे किसी भी मजहब या देश के हों। इसकी राशि होती है 2 लाख दिरहम। महिलाओं के लिए यह राशि इसकी आधी होती है।

बिजनेसमैन एसपी सिंह ने कहा कि ट्रस्ट ने रियाज को यूएई आने को कहा है और उसके व उसके परिवार के लिए वीजा और ठहरने की व्यवस्था भी की है। उन्होंने कहा कि हमने किसी तरह उन्हें दोषियों को शरिया कानून के तहत माफी देने के लिए राजी किया है और ब्लड मनी के तौर पर 2 लाख दिरहम कोर्ट में जमा करा दिए हैं।

मारे गए पाकिस्तानी नागरिक मुहम्मद फरहान:

भाजपा सांसद आरके सिंह ने कहा- "भारत तेरे टुकड़े होंगे, कहने वालों को पटक कर मारेंगे", देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App