ताज़ा खबर
 

भारी बारिश से पाकिस्तान में तबाही, लगभग 50 की मौत

एनडीएमसी के मुताबिक मूसलाधार बारिश के कारण बलूचिस्तान में 18 लोगों की मौत हुई है, जबकि आदिवासी इलाकों में 15, पंजाब में 10 और खैबर पखतूनख्वा में छह लोगों की जानें गईं हैं।

Author इस्लामाबाद | March 14, 2016 9:53 PM
इस्लामाबाद में बारिश से बचने की कोशिश करता एक परिवार।

मूसलाधार बारिश से मची तबाही से पाकिस्तान में लगभग 50 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 80 अन्य लोग घायल हुए है। अधिकारियों ने सोमवार (14 मार्च) को बताया कि मूसलाधार बारिश गुरुवार को बलूचिस्तान से शुरू हुई और उसके बाद अन्य प्रांतों में भी फैल गई, जिसके कारण देश में 49 लोगों की मौत हुई है। रिपोर्ट मिली है कि मौसमी भारी बारिश बलूचिस्तान एवं देश के अन्य भागों में पूरे सप्ताहांत रही, जबकि छिटपुट बारिश अब भी जारी है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमसी) के मुताबिक मूसलाधार बारिश के कारण बलूचिस्तान में 18 लोगों की मौत हुई है, जबकि आदिवासी इलाकों में 15, पंजाब में 10 और खैबर पखतूनख्वा में छह लोगों की जानें गईं हैं। इसके अलावा, इन बारिश प्रभावित इलाकों में 80 अन्य लोग घायल भी हुए हैं और 75 मकान तबाह होने की खबर मिली है।

अधिकारियों ने बताया कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि इन बारिश प्रभावित इलाकों में से कुछ इलाकों में अब तक अधिकारी नहीं पहुंच सके हैं। अधिकतर मौतें मकानों के ढ़हने के कारण हुई। इसके अलावा, दक्षिण पंजाब में गेहूं की फसल को भारी नुकसान होने की खबरें भी मिली हैं।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14850 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹0 Cashback

हालांकि अधिकतर भागों में सोमवार (14 मार्च) बारिश रुक गई है, लेकिन मौसम विभाग ने पूर्वानुमान लगाया है कि इस सप्ताह के मध्य में फिर से भारी बारिश की झड़ी शुरू हो सकती है, जो एकाध दिन तक जारी रह सकती है। मौसम विभाग द्वारा पहाड़ी इलाकों में अचानक बाढ़ आने की संभावना भी व्यक्त की जा रही है। पिछले साल बरसात के मौसम के दौरान मूसलाधार बारिश एवं बाढ़ से पाकिस्तान में 80 से अधिक लोगों की मौत हुई थी और करीब तीन लाख लोग प्रभावित हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App