ताज़ा खबर
 

पाक सरकार ने इस्लामाबाद में प्रदर्शनों पर रोक लगाई, इमरान खान अड़े

राजधानी में जिला प्रशासन ने लोगों के जमा होने और हथियारों के प्रदर्शन को प्रतिबंधि करते हुए धारा 144 लगा दी है।

Author इस्लामाबाद | Published on: October 27, 2016 9:43 PM
पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता इमरान खान। (एपी फाइल फोटो)

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता इमरान खान की ओर से प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के इस्तीफे की मांग को लेकर इस्लामाबाद में प्रस्तावित प्रदर्शन से कुछ दिन पहले पाकिस्तानी सरकार ने गुरुवार (27 अक्टूबर) को राजधानी में राजनीतिक रैलियां और सभाएं करने पर रोक लगा दी। राजधानी में जिला प्रशासन ने लोगों के जमा होने और हथियारों के प्रदर्शन को प्रतिबंधि करते हुए धारा 144 लगा दी है। अधिसूचना के अनुसार एक स्थान पर पांच से अधिक लोग एकत्र नहीं हो सकते। रेडियो पाकिस्तान ने खबर दी है कि जनसभाओं और भीड़ के जमा होने पर रोक लगा दी गई है। प्रशासन ने यह अधिसूचना उस वक्त जारी की है जब तहरीक-ए-इंसाफ ने आगामी दो नवंबर को धरना करने की योजना बनाई है। इमरान की पार्टी पनामा पेपर्स के संदर्भ में नवाज शरीफ और उनके परिवार पर धनशोधन का आरोप लगाकर प्रदर्शन कर रही है तथा प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग कर रही है।

उधर, इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने तहरीक-ए-इंसाफ को संघीय राजधानी को बंद करने से रोकने के लिए आदेश जारी किए हैं। न्यायमूर्ति शौकत अजीज सिद्दीकी ने तहरीक-ए-इंसाफ के प्रस्तावित धरने के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश जारी किया। इस बीच, अपने रुख पर अडिग इमरान ने इस्लामाबाद में संवाददाताओं से कहा, ‘शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना मेरा कानूनी और संवैधानिक अधिकार है और मैं इस अधिकार का इस्तेमाल करूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘हम दो नवंबर को पाकिस्तान का भविष्य बदल देंगे और हमें रोकने की ताकत किसी में नहीं है।’ इमरान ने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बल प्रयोग करना असंवैधानिक है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 संराष्ट्र राहत प्रमुख ने अलेप्पो को बताया ‘किल ज़ोन’, रूस ने लगाया अहंकारी होने का आरोप
2 इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ मानहानि का मुकदमा करेंगे नवाज़ शरीफ़ के छोटे भाई
3 सीपीसी ने शी जिनपिंग को बनाया ‘प्रमुख’ नेता, पार्टी-सेना-सरकार पर पकड़ होगी मज़बूत