ताज़ा खबर
 

गर्लफ्रेंड को पीटने के आरोपी हैं पाकिस्तान के नए यूएन डिप्लोमैट, पूर्व राष्ट्रपति जरदारी भी कर चुके हैं बर्खास्त

मुनीर अकरम राजनीतिक विज्ञान के छात्र रहे हैं और उन्होंने कराची यूनिवर्सिटी से मास्टर्स किया है। 1968 में वह पब्लिक सर्विस में आए और इसके एक साल बाद ही पाकिस्तान की विदेश सेवा में शामिल हो गए।

munir akramतस्वीर में बाईं तरफ मुनीर अकरम और दाईं तरफ मलीहा लोधी। (फोटो सोर्स ट्विटर)

पाकिस्तान ने सोमवार को मलीहा लोधी को हटाकर मुनीर अकरम को संयुक्त राष्ट्र में देश का स्थाई प्रतिनिधि नियुक्त किया है। विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘राजदूत मुनीर अकरम को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में डॉ मलीहा लोधी की जगह पाकिस्तान का स्थाई प्रतिनिधि नियुक्त किया गया है।’ पाकिस्तान विदेश कार्यालय ने हालांकि मलीहा लोधी को हटाने को हटाने की कोई वजह नहीं बताई। उल्लेखनीय है कि मुनीर अकरम वही हैं जिन्हें पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी से कथित तौर पर बहस करने पर पद से बर्खास्त कर दिया गया था।

साल 2002 में उनका नाता विवादों से भी जुड़ा रहा जब अमेरिका में स्थित उनकी प्रेमिका ने घरेलू हिंसा का आरोप लगाया। मुनीर अकरम की तैनाती तब पाकिस्तानी राजदूत के रूप में संयुक्त राष्ट्र में  थी जब उनकी प्रेमिका मरिजाना मिहिक ने दिसंबर, 2002 में घरेलू हिंसा का आरोप लगाया। न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक कोर्ट के बाहर ही इस मामले का निपटारा हो गया था और डिप्लोमेटिक इम्यूनिटी के चलते उनके खिलाफ कोई आपराधिक चार्ज नहीं लगाया गया।

मुनीर अकरम की नियुक्ति पर पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने कहा, ‘अकरम एक अनुभवी व्यक्ति है जिन्होंने साल 2002 से साल 2008 तक सयुक्त राष्ट्र के स्थाई प्रतिनिधि के रूप में पाकिस्तान का प्रतिनिधि के रूप में काम किया।’ बता दें कि साल 2002 में क्रिसमस और नए साल के जश्न के बीच न्यूयॉर्क सिटी पुलिस को एक शिकायत मिली, जिसमें एक महिला ने रोते हुए बताया कि उसके पति ने साथ बुरी तरह मारपीट की।

पीड़िता ने 911 (जैसे भारत में 100 नंबर डायल कर पुलिस सहायता ली जाती है) ऑपरेटर को बताया कि उसके पति ने दीवार में उसका सर पटक दिया। एनवाईटी न्यूज ने साल 2003 में यह रिपोर्ट दी थी। इस दौरान ऑपरेटर को यह भी बताया गया कि महिला ने जिस व्यक्ति पर यह आरोप लगाए वो डिप्लोमेटिक इम्यूनिटी से था।

पीड़िता की शिकायत पर जब पुलिस मुनीर अकरम के मैनहैटन स्थित आवास पर पहुंची तो महिला ने बताया कि आरोपी उसका प्रेमी है और दोनों के बीच किसी बात पर बहस हो गई, इस दौरान मुनीर अकरम ने उसका सर दीवार में पटक दिया। हमले के वक्त उसने घटनास्थल से जाने की कोशिश भी की थी।

बता दें कि जब पुलिस पीड़िता के पास पहुंची तब मुनीर अकरम अपने आवास पर मौजूद थे। इस दौरान उन्होंने खुद पाकिस्तान का राजदूत बताया। डिप्लोमेटिक इम्यूनिटी के चलते पुलिस तब उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकी।

जानना चाहिए कि मुनीर अकरम राजनीतिक विज्ञान के छात्र रहे हैं और उन्होंने कराची यूनिवर्सिटी से मास्टर्स किया है। 1968 में वह पब्लिक सर्विस में आए और इसके एक साल बाद ही पाकिस्तान की विदेश सेवा में शामिल हो गए। इस बीच सबसे पहले उनकी पोस्टिंग यूएन में द्वितीय सचिव की रूप में हुई। इस दौरान और देशों में अपनी सेवाएं देने के बाद 1995 में उन्हें सयुक्त राष्ट्र के जिनेवा ऑफिस में पाकिस्तान का स्थाई प्रतिनिधि बनाया गया।

Next Stories
1 मोदी ने नहीं कहा था ‘अबकी बार ट्रंप सरकार’! विदेश मंत्री जयशंकर बोले- कृपया सावधानीपूर्वक ध्यान दें
2 PETROL-DIESEL बेतहाशा ढंग से हो सकते हैं महंगे! सऊदी क्राउन प्रिंस ने दे डाली यह चेतावनी
3 ब्रिटिश पीएम के साथ रात गुजारने का किया है दावा, गोविंदा की फिल्म में काम कर चुकी हैं जेनिफर
ये पढ़ा क्या?
X