ताज़ा खबर
 

Paradise Papers: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शौकत अजीज का आया नाम

Paradise Papers Leak: शौकत अजीज तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल के दौरान वित्तमंत्री रहे थे। साथ ही वह 2004 से 2007 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भी रह चुके हैं।

Author इस्लामाबाद | November 6, 2017 6:30 PM
अजीज राजनीति में आने से पहले सिटीबैंक में नौकरी किया करते थे। (Photo- Reuters)

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शौकत अजीज का नाम पैराडाइज पेपर्स में आया है। वित्तीय दस्तावेजों के नवीनतम लीक से यह खुलासा हुआ है कि किस तरह शक्तिशाली और अमीर लोगों ने गोपनीय तरीके से अपतटीय कर पनाहगाहों में भारी मात्रा में धन निवेश कर रखा है। इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) ने विश्वव्यापी जांच कर रविवार को 1.34 करोड़ फाइलें लीक की हैं। खुलासे के अनुसार, बरमुडा की एप्पलबाय और सिंगापुर की एसियासिटी नामक दो कंपनियां भी इसमें शामिल हैं। डॉन ऑनलाइन की खबर के मुताबिक, नवीनतम लीक में पाकिस्तान के प्रसिद्ध नेता अजीज का नाम सामने आया है। अजीज तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल के दौरान वित्तमंत्री रहे थे, साथ ही वह 2004 से 2007 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भी रह चुके हैं।

अजीज राजनीति में आने से पहले सिटीबैंक में नौकरी किया करते थे और बैंक के दूसरे अधिकारियों के साथ 1997 से 1999 तक वह बहामास-पंजीकृत सिटीट्रस्ट लिमिटेड के शेयरधारकों और निदेशकों में एक थे। आईसीआईजे के प्रतिनिधि उमर चीमा ने जियो न्यूज को बताया, “शौकत अजीज ने पाकिस्तान का वित्त मंत्रालय संभालने से चंद सप्ताह पहले ही अपनी पत्नी, तीन बच्चों और पोती के नाम अंटार्कटिक ट्रस्ट स्थापित किया था।” चीमा ने कहा कि 2003 और 2006 के बीच अजीज ने किसी भी पाकिस्तानी संस्थान के अंदर अपने वित्तीय दस्तावेजों में इस संपत्ति की कही भी घोषणा और जानकारी नहीं दी।

आईसीआईजे ने अपनी वेबसाइट पर कहा है, “एप्पलबाय का बरमुडा कार्यालय ट्रस्ट का संरक्षक था, और एक स्वतंत्र पर्यवेक्षक के रूप में काम करता था। 2012 के एक आंतरिक ज्ञापन में कानूनी कंपनी के अनुपालन अधिकारी ने पाया कि विपक्ष ने अजीज पर संपत्ति, भ्रष्टाचार और धन के गबन को लेकर झूठी घोषणा करने का आरोप लगाया है।” अंटार्कटिक ट्रस्ट सितंबर 2015 में बंद हो गया था। आईसीआईजे ने कहा है कि अंटार्कटिक ट्रस्ट में अजीज द्वारा अधिकांश संपत्ति सिटीकॉर्प में काम करने के दौरान अर्जित की गई थी और इसे बतौर वित्तमंत्री के रूप में पाकिस्तान स्थानांतरित और नियुक्त होने से पहले बनाया गया था।

अजीज के वकील ने आईसीआईजे को बताया कि इसका मकसद यह था कि अगर किसी कारणवश अजीज की मृत्यु हो जाती है तो उनकी संपत्ति सीधे तौर पर उनके परिवार के नाम हो जाएगी। नेशनल इंश्योरेंस कॉर्प लिमिटेड के पूर्व अध्यक्ष अयाज खान नियाजी का नाम भी पैराडाइज पेपर्स में सामने आया है। नियाजी का नाम ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड पर चार अपतटीय कंपनियों में हितधारकों के संबंध में आया है। न्यूज डेली की एक रपट के मुताबिक, करीब 135 पाकिस्तानी नागरिकों की पहचान की गई है, जिन्होंने अपने नाम से या फिर अपतटीय कंपनियों के माध्यम से स्विस बैंक में खाते खोल रखे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App