ताज़ा खबर
 

SC से गद्दी छिनने के बाद फिर से PM हाउस जाने की फिराक में नवाज शरीफ, बीवी का लिया सहारा

नवाज शरीफ की पत्नी कुलसूम नवाज ने आज अपने पति द्वारा खाली की गयी सीट से पीएमएल-एन उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा।
नवाज शरीफ। (Photo Source: AP)

पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट द्वारा पद के अयोग्य ठहराये गये प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पत्नी कुलसूम नवाज ने आज अपने पति द्वारा खाली की गयी सीट से पीएमएल-एन उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा। डॉन न्यूज की खबर में कहा गया कि एनए-120 सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिये पाकिस्तान के निर्वाचन आयोग के लाहौर दफ्तर में पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज पार्टी के सदस्य आसिफ किरमानी और कैप्टन सफदर ने कुलसूम का नामांकन पत्र भरा। रिपोर्ट में किरमानी के हवाले से कहा गया, ‘‘एनए-120 (पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ प्रमख) इमरान खान और नवाज शरीफ के अन्य विरोधियों के लिये वाटरलू साबित होगा।’’सुप्रीमकोर्ट द्वारा पनामागेट मामले में 28 जुलाई को 67 वर्षीय शरीफ को अयोग्य ठहराये जाने के बाद नेशनल असेंबली की यह सीट खाली हो गयी है।

पूर्व प्रधानमंत्री ने पहले अपने छोटे भाई शाहबाज शरीफ का नाम इस सीट से पार्टी उम्मीदवार के तौर पर घोषित किया था। उनके नाम को हालांकि बाद में वापस ले लिया गया क्योंकि पार्टी को पंजाब में उनकी मौजूदगी ज्यादा महत्वपूर्ण लगी। शरीफ परिवार के करीबी माने जाने वाले पीएमएल-एन के एक वरिष्ठ नेता ने पीटीआई को बताया, ‘‘नवाज शरीफ ने चतुराई भरा कदम उठाया है। उपचुनाव में अपनी पत्नी को खड़ा कर उन्होंने एक बार फिर प्रधानमंत्री निवास में जाने की योजना बनाई है और इस बार अगले महीने ‘फर्स्ट जेंटलमैन’ की हैसियत से।’’ उन्होंने कहा कि 17 सितंबर को चुनाव जीतने के बाद प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी बेगम कुलसूम के लिये यह पद छोड़ देंगे। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की उम्मीदवार डॉ. यासमीन राशिद ने भी आज सुबह अपना नामांकन पत्र दाखिल किया।

इस नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य करार दिए जाने को ‘‘मजाक’’ बताया और लोगों से कहा कि उनका साथ दें ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि उनके मतदान का सम्मान हो। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ ने पिछले महीने शरीफ को भ्रष्टाचार के लिए अयोग्य करार दिया था और फैसला दिया था कि पनामा पेपर्स कांड में उनके और उनके बच्चों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए जिसके बाद प्रधानमंत्री तीसरी बार पद छोड़ने के लिए बाध्य हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.