ताज़ा खबर
 

अप्रैल फूल की चपेट में आए पाकिस्तान के पूर्व गृहमंत्री रहमान मलिक, इतने गुस्सा गए कि पाकिस्तान सरकार को दे डाली चेतावनी

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने अप्रैल फूल पर प्रैंक के तौर पर एक खबर छापी जिसमें लिखा गया कि पाकिस्तान सरकार ने इस्लामाबाद एयरपोर्ट का नाम बदलकर शी जिंगपिंग के नाम पर रखने का फैसला किया है।

पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के नेता और पूर्व गृहमंत्री रहमान मलिक की फाइल फोटो।

1 अप्रैल को अप्रैल फूल वाले दिन पाकिस्तान के पूर्व गृहमंत्री भी इसकी चपेट में आ गए। एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने अप्रैल फूल पर प्रैंक के तौर पर एक खबर छापी जिसमें लिखा गया कि पाकिस्तान सरकार ने इस्लामाबाद एयरपोर्ट का नाम बदलकर शी जिंगपिंग के नाम पर रखने का फैसला किया है। इस खबर को पढ़ने के बाद रहमान मलिक गुस्से में आ गए। मलिक ने इस पर कड़ी आपत्ति जताते हुए ऐलान कर दिया कि इस्लामाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम पाकिस्तान पीपल्स पार्टी की दिवंगत नेता बेनजीर भुट्टो के नाम पर रखा गया है और अगर इसे बदले की कोशिश की गई तो उनकी पार्टी चुप नहीं बैठेगी। पूर्व गृहमंत्री रहमान मलिक ने पाकिस्तान सरकार को ये चेतावनी भी दे डाली कि वह एयरपोर्ट का नाम बदलने के बार में सोचे तक नहीं, अगर ऐसा हुआ तो ठीक नहीं होगा।

रहमान मलिक को बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि इस खबर को पूरी तरह से अप्रैल फूल के एक प्रैंक के तौर पर लिखा गया है। इस प्रैंक को मलिक बहुत ज्यादा सीरियसली ले बैठे और आनन- फानन में मीडिया से मुखातिब होते हुए कह दिया कि सरकार को ऐसे कदम उठाने से बचना चाहिए। उन्होंने बयान जारी करते हुए कहा कि इससे पहले देश में कभी ऐसा नहीं हुआ है जब किसी नेशनल हीरो के नाम से सजी संस्था के नाम के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ की गई हो।

रहमान मलिक को गंभीर होता देख खबर छापने वाले न्यूज़ पोर्टल एक्स्प्रेस ट्रिब्यून ने उनसे संपर्क कर अपनी बात साफ करनी चाही। लेकिन एक्स्प्रेस ट्रिब्यून ने कहा है कि बार-बार कोशिश करने के बाद भी रहमान मलिक से किसी तरह से संपर्क नहीं हो पाया है। आपके बता दें कि अप्रैल महीने की पहली तरीक को अप्रैल-फूल डे के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन सब एक दूसरे को बेवकूफ बनने का हर संभव प्रयास करते है।

VIDEO: पाकिस्तान के साथ मिलकर बैलिस्टिक मिसाइल्स, एयरक्राफ्ट्स बनाएगा चीन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App