ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान: आतंकी समूहों के संबंध रखने वाला डॉक्टर और विश्वविद्यालय छात्र गिरफ्तार

पंजाब पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘खुफिया एजेंसियों ने जिन्ना अस्पताल के वरिष्ठ रजिस्ट्रार डा0 अबूर रेहान को हिजबुत तहरीर (एचयूटी) के साथ संबंध रखने के संदेह में हिरासत में लिया है।’’
Author लाहौर | March 14, 2016 22:46 pm
पाकिस्तान

पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सियों ने प्रतिबंधित आतंकी समूह हिजबुत तहरीर और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से कथित तौर पर संबंध रखने के आरोप में एक वरिष्ठ चिकित्सक और पंजाब विश्वविद्यालय के एक छात्र को हिरासत में लिया है। पंजाब पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘खुफिया एजेंसियों ने जिन्ना अस्पताल के वरिष्ठ रजिस्ट्रार डा0 अबूर रेहान को हिजबुत तहरीर (एचयूटी) के साथ संबंध रखने के संदेह में हिरासत में लिया है।’’

जिन्ना अस्पताल के डाक्टर इमरान वहीद ने कहा, ‘‘खुफिया एजेंसी के अधिकारी ने अस्पताल प्रशासन को बताया कि डाक्टर रेहान उनकी हिरासत में हैं।’’ उन्होंने कहा कि एजेंसी के अधिकारियों ने अस्पताल प्रशासन को आश्वस्त किया कि यदि रेहान पर प्रतिबंधित आतंकी समूह से संबंध रखने का मामला साबित नहीं हुआ, जो उन्हें आजाद कर दिया जाएगा।

खुफिया एजेंसियों ने रविवार (13 मार्च) को एक अन्य घटना में अतीक अफरीदी को प्रतिबंधित आतंकी समूह टीटीपी से संबंध रखने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। वह पंजाब विश्वविद्यालय के हेली कॉलेज में वाणिज्य का छात्र है।

विश्वविद्यालय के मुख्य सुरक्षा अधिकारी सेवानिवृत्त मेजर सलीम ने बताया, ‘‘अफरीदी ने पिछले शुक्रवार को एक लड़की के मामले में एक शोध छात्र को यातना दी थी। इसके बाद जब उसे विश्वविद्यालय के अधिकारियों के सामने पेश किया गया, तो उसने टीटीपी के नेक मुहम्मद और बैतुल्ला मेहसूद को अपना नेता बताया और उनकी हत्याओं का बदला लेने की कसम खाई।’’ उन्होंने बताया कि खुफिया एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं।

इससे पहले पंजाब विश्वविद्यालय के इंस्ट्टीट्यूट आफ एडमिनिस्ट्रेटिव साइंसेज के सहायक प्रोफेसर डाक्टर गालिब अता और विश्वविद्यालय के लॉ कॉलेज के छात्र को एचयूटी के साथ गहरे संबंध रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

उल्लेखनीय है कि पंजाब का प्रतिबंधित आतंकी संगठन हिजबुत तहरीर (एचयूटी) लोकतंत्र के खिलाफ है और देश में खिलाफत का पैरोकार है। प्रतिबंधित संगठन पर देश के सशस्त्र बलों के खिलाफ दुष्प्रचार अभियान चलाने का भी आरोप है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.