ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान: बलूचिस्तान में दरगाह में विस्फोट, 52 की मौत, 100 घायल

दरगाह रिमोट इलाके में स्थित है, ऐसे में इमरजेंसी सुविधाओं के पहुंचने में दिक्कत हो रही है।
Author November 13, 2016 13:43 pm

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के बलूचिस्तान के खुजदार जिले में शाह नोरानी दरगाह में शुक्रवार को हुए विस्फोट में 30 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में 70 लोग घायल भी हो गए। पाकिस्तान के अखबार डॉन ने अपनी वेबसाइट डॉन.कॉम पर तहसीलदार जावेद इकबाल के हवाले से लिखा है, ‘विस्फोट में बच्चों और महिलाओं सहित 30 लोगों की मौत हो गई और 70 घायल हो गए।’ यह विस्फोट दरगाह परिसर के अंदर उस जगह हुआ, जहां धमाल(सूफी रिवाज) हो रहा था। विस्फोट की जानकारी मिलने के बाद सुरक्षाबल पहुंच गए। दरगाह के रिमोट क्षेत्र में होने की वजह से इमरजेंसी सर्विस के पहुंचने में दिक्कत हो रही है। विस्फोट के बाद इलाके की बिजली सेवा बाधित हो गई। अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बलूचिस्तान के गृहमंत्री मीर सरफराज अहमद बुगती ने कहा कि जो लोग विस्फोट में गंभीर रूप से घायल हो गए हैं, उन्होंने कराची भेजा गया है। दरगाह के पास कोई बड़ा अस्पताल नहीं है। घायलों को कराची भेजा जाएगा। अभी घायलों को प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। जिले के सभी अस्पतालों में आपातकाल घोषित कर दिया गया है। दरगाह पर शुक्रवार के दिन काफी संख्या श्रद्धालू पहुंचे हैं। यहां पूरे पाकिस्तान से लोग आते हैं। ईरान के लोग भी यहां पहुंचते हैं। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने विस्फोट में मरने वाले लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

इससे अलग पाकिस्तान को अभी तालिबान की समस्या से भी निजात मिलती नहीं दिख रही है। अफगान-तालिबान वार्ताकारों ने पाकिस्तान से कहा है कि उन्हें अफगान सरकार के साथ शांति वार्ता के लिए खुद को तैयार करने की खातिर और अधिक समय की जरूरत है। मीडिया की एक रिपोर्ट में आज बताया गया कि सोवियत जिहाद युग के प्रमुख नेतृत्वकर्ता, गुलबुद्दीन हिकमतयार द्वारा हिंसा को समाप्त करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद अफगान सरकार शांति वार्ता के लिए आतंकवादी समूह को तैयार करने की कोशिश कर रही है।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के अनुसार, एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी की उपस्थिति में खाड़ी देश में एक वरिष्ठ तालिबान नेता के अफगान के खुफिया प्रमुख से मुलाकात करने की रिपोर्ट आने के बाद अक्तूबर में कतर स्थित तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के तीन वरिष्ठ सदस्य पाकिस्तान पहुंचे थे। तालिबान के एक सूत्र के हवाले से अखबार ने लिखा , ‘‘तालिबान के प्रतिनिधियों ने पाकिस्तानी अधिकारियों को इस बात से अवगत करा दिया है कि उन्होंने काबुल प्रशासन के साथ वार्ता करने के बारे में अभी तक फैसला नहीं किया है।’’तालिबान के नेताओं ने कहा है कि वह सिर्फ यह बता सकते हैं कि दो या तीन महीनों के बाद वे वार्ता में शामिल होंगे या नहीं।

वीडियो में देखें- पाकिस्तानी सेना ने अपनी तैयारियों की जांच के लिए रात के अंधेरे में किया अभ्यास

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.