ताज़ा खबर
 

पाक ने सौ भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार किया, तीन दर्जन से ज्यादा नौकाओं को किया जब्त

गुजरात के कच्छ जिले के जाखू तटवर्ती क्षेत्र से पाकिस्तान मेरीटाइम सिक्योरिटी एजंसी (पीएमएसए) ने रविवार को सौ से ज्यादा भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार कर लिया और उनकी 18 नौकाएं भी जब्त कर लीं।

Author अमदाबाद | March 27, 2017 3:36 AM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

गुजरात के कच्छ जिले के जाखू तटवर्ती क्षेत्र से पाकिस्तान मेरीटाइम सिक्योरिटी एजंसी (पीएमएसए) ने रविवार को सौ से ज्यादा भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार कर लिया और उनकी 18 नौकाएं भी जब्त कर लीं।  नेशनल फिशवर्कर्स फोरम (एनएफएफ) के सचिव मनीष लोधारी ने कहा- हमें सूचना मिली है कि जाखू तटवर्ती क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा के पास से पीएमएसए ने 18 नौकाओं पर सवार सौ से ज्यादा मछुआरों को गिरफ्तार किया है। वहां से सुरक्षित भागे मछुआरों ने हमें इसकी सूचना दी है।  उन्होंने कहा कि एनएफएफ पाकिस्तानी एजंसियों के साथ संपर्क करने का प्रयास कर रही है ताकि पता चल सके कि पीएमएसए ने कितने मछुआरों को गिरफ्तार किया है। पीएमएसए ने इस महीने के शुरू में 115 मछुआरों को गिरफ्तार कर उनकी 19 नौकाएं जब्त की थीं। पीएमएसए ने अभी तक मार्च में अलग-अलग घटनाओं में 225 से ज्यादा मछुआरों को गिरफ्तार किया है और करीब तीन दर्जन नौकाएं जब्त की है।

श्रीलंकाई सेना ने 12 भारतीय मछुआरों को पकड़ा : उधर रामेश्वरम से मिली सूचना के मुताबिक श्रीलंका की नौसेना ने अपने देश के जल क्षेत्र में मछली पकड़ने के आरोप में तमिलनाडु के 12 मछुआरों को गिरफ्तार किया है। इन मछुआरों को शनिवार रात नेदुनथीवु के नजदीक गिरफ्तार किया गया।मत्स्य पालन विभाग के सहायक निदेशक अलेक्जेंडर ने बताया कि मछुआरों को उनकी दो नौकाओं के साथ उत्तरी श्रीलंका के कांकेसनथुरई बंदरगाह ले जाया गया है। इसके अलावा नेदुनथीवु के नजदीक 500 नौकाओं पर सवार होकर मछली पकड़ रहे रामेश्वरम के करीब 2,000 मछुआरों का श्रीलंकाई नौसैनिकों ने पीछा किया। इसके बाद ये मछुआरे रात को ही यहां समुद्र तट पर वापस लौट आए। इस महीने यह पांचवीं बार है जब श्रीलंकाई नौसेना ने भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार किया है। श्रीलंका ने 14 मार्च को 77 मछुआरों को रिहा किया था। शनिवार रात पकड़े गए मछुआरों सहित करीब 38 मछुआरे उसकी हिरासत में हैं।

 

पीएम मोदी ने यूपी के सांसदों से कहा- "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कोई सिफारिश न करें"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App