ताज़ा खबर
 

मोदी के जवाब को पाकिस्‍तानी पत्रकार ने बताया ‘डोमेस्टिक कंजम्‍पशन’ के लिए दिया गया बयान, एक्‍सपर्ट ने कहा- नाकामी से हताश है भारत

शो में बतौर एक्सपर्ट राजनयिक मलीहा लोदी ने हिस्सा लेते हुए कहा कि भारत की सरकार बौखलाहट की शिकार है। उनमें घोर निराशा और हताशा है। लोदी यूएन में पाकिस्तान की राजदूत हैं।
उरी हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्तों में कड़वाहट जारी है। (फोटो-AP/दार यासिन)

उरी हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में कड़वाहट जारी है। यही कड़वाहट दोनों देश की मीडिया में भी झलक रही है। केरल के कोझिकोड में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान को सीधे-सीधे गरीबी से लड़ने की चुनौती दी तो पाकिस्तान की मीडिया ने इसे डोमेस्टिक कंजम्पशन के लिए दिया गया बयान करार दिया। पाकिस्तान के मशहूर टीवी चैनल दुनिया न्यूज के मोइद पीरजादा ने अपने प्राइम शो में ऐसी बातें कहीं। शो में बतौर एक्सपर्ट राजनयिक मलीहा लोदी ने हिस्सा लेते हुए कहा कि भारत की सरकार बौखलाहट की शिकार है। उनमें घोर निराशा और हताशा है। लोदी यूएन में पाकिस्तान की राजदूत हैं। लोदी ने कहा कि यूएन महासभा में जिस तरह से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कश्मीर का मुद्दा उठाया, वहां के फैक्ट्स एंड फिगर्स दुनिया के सामने रखे, उससे भारत बैकफुट पर है और पूरे मामले को अब डायवर्ट करना चाह रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि कश्मीर में जारी हिंसा और पुलिस उत्पीड़न से ध्यान हटाने के लिए ही प्रधानमंत्री मोदी ने युद्ध जैसे हालात बनाए हैं। इससे पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ भी कह चुके हैं कि कश्मीर में जारी हिंसा के प्रतिरोध में उरी हमला हुआ होगा।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार (24 सितंबर) को कोझिकोड में एक रैली में पाकिस्‍तान पर जमकर बरसे थे। उन्‍होंने उरी हमले के बाद सार्वजनिक तौर पर अपनी पहली प्रतिक्रिया में कहा कि पाकिस्‍तान दुनिया में आतंकवाद एक्‍सपोर्ट करता है। वह एशिया को रक्‍तरंजित बनाने में लगा हुआ। उन्‍होंने साथ ही साफ किया कि उरी में शहीद हुए 18 जवानों का बदला लिया जाएगा। साथ ही पाक को चुनौती दी कि उसमें हिम्‍मत है तो वह गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा के मुद्दे पर मुकाबला करके दिखाए। पीएम मोदी ने पाकिस्‍तान की जनता से कहा कि वह अपने नेताओं से पूछे कि पीओके, गिलगित, सिंध और बलूचिस्‍तान उसके पास पहले से ही हैं, उन्‍हें वह क्‍यों नहीं संभाल पा रहा है। क्‍यों पूर्वी बंगाल उससे अलग हो गया? पीएम मोदी ने कहा कि कश्‍मीर की बात करके उन्‍हें गुमराह किया जा रहा है, इसलिए पाकिस्‍तानी अवाम अपने नेताओं से सवाल करे। पाकिस्‍तान की जनता को पूछना चाहिए कि भारत और पाकिस्‍तान एक साथ आजाद हुए थे लेकिन भारत सॉफ्टवेयर एक्‍सपोर्ट करता है और पाकिस्‍तान आतंकवाद, क्यों?

Read Also-पीएम मोदी बोले- 18 जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा, हिेंदुस्‍तान जंग को तैयार है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App